DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

संविदा कर्मचारी आज एनएचएम के अधिकारियों से मिलेंगे

- अस्पतालों के संविदा कर्मचारी अफसरों से वार्ता करके लगाएंगे नौकरी बचाने की गुहार - बलरामपुर, सिविल, लोहिया समेत प्रदेश के 32 अस्पतालों के कर्मचारियों की होली फीकी लखनऊ। निज संवाददाता नौकरी से हटाए जाने के आदेश मिलने से अस्पतालों में तैनात संविदा कर्मचारियों की होली फीकी हो गई है। कर्मचारियों को गहरा आघात लगा है। संविदा कर्मचारी सोमवार को अधिक संख्या में अस्पतालों से निकलकर एनएचएम के अफसरों से मिलेंगे। उन्हें अपना दर्द बताकर नौकरी बचाने की गुहार लगाएंगे। वार्ता विफल होने पर कर्मचारी उग्र आंदोलन की अगली रणनीति तय कर सकते हैं। सोमवार को अस्पताल में काम भी प्रभावित हो सकता है। सबसे ज्यादा परेशानी पर्चा बनवाने में मरीजों को आ सकती है, क्योंकि ज्यादातर कर्मचारी पर्चा बनाने, कंप्यूटर ऑपरेटर का काम देख रहे हैं। समायोजन की करेंगे मांग अस्पतालों में तैनात कर्मचारियों ने तय किया है कि वह सोमवार को एनएचएम के एमडी, शासन स्तर के अन्य अफसरों से भी मुलाकात करेंगे। उनसे मिलकर नौकरी सुरक्षित रखने की मांग करेंगे। उन्हें यह भी बताएंगे कि हाल में ही टीएंडएम कंपनी के कर्मचारियों को भी हटाने का आदेश आया था, लेकिन उनकी मांग पर कर्मचारियों को छह माह का विस्तार दिया गया है। साथ ही उन कर्मचारियों को आश्वस्त किया गया है कि छह माह बाद एनएचएम स्वास्थ्य विभाग के अफसरों के साथ वार्ता करके सभी कर्मचारियों को किसी तरह से समायोजित करेंगे। उन्हें नौकरी से नहीं हटाया जाएगा। डीई, एसएसई पद पर हैं तैनात सरकारी अस्पतालों में प्रधानमंत्री की डिजिटल इंडिया के तहत ई-हॉस्पिटल परियोजना में सिल्वर टच टेक्नोलॉजी कंपनी से सिविल, बलरामपुर, लोहिया समेत प्रदेश के 32 अस्पतालों में संविदा पर डाटा एक्जीक्यूटिव (डीई) और सीनियर सपोर्ट एक्जीक्यूटिव (एसएसई) पद पर तैनात हैं। ये सभी कर्मचारी अस्पतालों में पर्चा बनाने, कंप्यूटर पर ऑफिस का काम देखने, सर्वर समेत टेक्नीशियन का अहम काम देख रहे हैं। इनकी संख्या सैकड़ों में है। अचानक नौकरी से हटाने का आदेश 14 मार्च को जारी किया गया है। एनएचएम ने इस संबंध में एक आदेश सभी अस्पतालों के अधीक्षकों को भेजा है। अचानक उन्हें महज चंद दिनों में हटाने का आदेश आ गया है। होली से पहले ऐसा आदेश आने से कर्मचारी भविष्य को लेकर खासे चिंतित, भयभीत और उग्र हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:samvida