class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कम होगी एसी बसों की अनुबंध सीमा, बोर्ड में जाएगा प्रस्ताव

अनुबंधित वाल्वो और स्कैनिया बसों से सफर करने वाले यात्रियों की सुरक्षा के लिए परिवहन विभाग बड़ा कदम उठाने जा रहा है। विभाग अनुबंधित एसी बसों की अनुबंध सीमा कम करने की तैयारी में है। अभी अनुबंधित बसों को बिना फिटनेस दस साल तक सड़कों पर दौड़ने दिया जाता है लेकिन अब विभाग अनुबंध सीमा 6 साल निर्धारित करने की तैयारी में है। अधिकारियों का कहना है कि अनुबंध सीमा तय होने के बाद बस स्वामियों को फिर उनकी फिटनेस और नवीनीकरण कराना होगा।

परिवहन विभाग के अनुसार एसी बसों में 6 साल बाद तकनीकी खराबियां आना शुरू हो जाती है। बीच रास्ते में बस खराब होने से यात्रियों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ता है। साथ ही दुर्घटना का भी खतरा बना रहता है। अभी अनुबंधित बसों के नवीनीकरण की सीमा 8 साल है। वाहन स्वामी इसे दस साल तक खिंच ले जाते हैं। ऐसे में बसों की हालत काफी खराब हो जाती है। मौजूदा समय में भी परिवहन विभाग के बेड़े में कई ऐसी बसें है जो आठ से दस साल तक पुरानी है। ऐसे में यात्रियों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए विभाग ने अनुबंध सीमा 6 साल तय करने का प्रस्ताव तैयार किया है। इस प्रस्ताव को आगामी बोर्ड बैठक में प्रस्तुत किया जाएगा।

सीटें तक हो चुकी हैं खराब

परिवहन विभाग के बेड़े में शामिल कई एसी बसों की सीटें तक खराब हो चुकी है। इसके अलावा इनका एसी भी सही तरीके से काम नहीं करता है। ऐसे में यात्रियों का सफर मुसीबत भरा हो जाता है। अधिकारियों के मुताबिक एसी बसों का किराया काफी अधिक है। बस पुरानी होने पर यात्री उसमें सफर करने से कतरा था। इससे राजस्व का भी नुकसान होता है। इसलिए अनुबंधित बसों की अनुबंध सीमा तय करने का प्रस्ताव बनाया गया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:roadways
सात शहरों में लो-फ्लोर मिनी बस सेवा शुरू होगीअमेठी में पूर्व मंत्री गायत्री प्रसाद प्रजापति का अवैध निर्माण ढहाया गया