DA Image
26 जनवरी, 2021|5:10|IST

अगली स्टोरी

मानसून की अंतिम बारिश में सड़कें बनी तालाब, लोग परेशान

default image

दुकानों व घरों में घुसा पानी, लोग घरों में कैद हुएलखनऊ। प्रमुख संवाददातामानसून की अंतिम बारिश ने चिपचिपाती गर्मी से राहत तो दी लेकिन लोगों की मुसीबत भी बढ़ा दी। चोक नालियों में बारिश का पानी नहीं समा सका। सीवर उफना गए। शहर के दो दर्जन से ज्यादा क्षेत्रों में भीषण जलभराव हो गया। सडकें तालाब बन गईं। घरों व दुकानों में पानी भर गया। लाखों रुपए का सामान बर्बाद हो गया। लोगों ने नगर निगम की लापरवाही को जमकर कोसा और नाराजगी व्यक्त की।बुधवार को देर रात से शुरू हुई बारिश गुरुवार को भी दिनभर जारी रही। इसी के साथ नगर निगम की नाली व जलकल की सीवर सफाई व्यवस्था की पोल खोल दी। पॉश इलाका गोमतीनगर में लोगों को जलभराव से जूझना पड़ा। यहां विनीत खण्ड, विराटखण्ड, विशालखण्ड, विराजखण्ड, विकासखण्ड आदि कालोनियों में सड़कों पर पानी भर गया। हुसड़िया चौराहे के पास सड़क पर बड़ा गड्ढा हो गया। यहां नगर निगम जोन चार का कार्यालय है। आनन-फानन में मलवा डलवाकर सड़क हुआ गड्ढा बंद कराना पड़ा।इस्माइलगंज द्वितीय वार्ड के सुरेंद्रनगर, पटेलनगर, मुलायमनगर, हिमसिटी, गहमरकुंज, पंचवटी, कृष्णा विहार, काशीनगर, स्वप्नलोक कॉलोनी, गोविंद बिहार आदि मोहल्ले जलमग्न हो गए। अटल बिहारी बाजपेई डिग्री कॉलेज परिसर पानी से भर गया। डिग्री कॉलेज परिसर में स्थित तालाब के सुंदरीकरण और एसटीपी का कार्य वर्ष 2018 में शुरू हुआ था। वह अब तक पूरा नहीं हो सका। बारिश का पानी सड़क पर भरने के बाद लोगों के घरों में घुसने लगा। लोगों का अपना सामान बचाने में संघर्ष करना पड़ा। पार्षद समीर पाल ने कहा कि इसकी आशंका से पहले ही नगर निगम के अधिकरियों को अवगत करा दिया गया था लेकिन सभी कान में तेल डाले बैठे रहे। नालियों की सफाई भी यहां ठीक से नहीं कराई गई है। शिवाजीपुरम की गली नंबर 14 में सीवर लाइन उफनाने से घरों में गंदा पानी घुस गया है। लोगों को संक्रामक बीमारी फैलने का डर है। इंदिरानगर आवासीय महासमिति के अध्यक्ष देवी शरण त्रिपाठी व महामंत्री सुशील कुमार बच्चा ने नगर निगम के अधिकारियों को कोसते हुए जलभराव की समस्या का समाधान कराने की मांगी है।कई इलाकों में जलभरावहजरतगंज-रामतीर्थ वार्ड के नरही बाजार में भीषण जलभराव हो गया। क्षेत्र वासियों एवं राहगीरों को दिक्कत का सामना करना पड़ा। दुकानों में पानी भर गया। दुकानों में रखा सामान बर्बाद हो गया। जानकीपुरम में सड़क पर दो-ढाई फुट पानी भरने से आवागमन बाधित रहा। आलमबाग में भी दुकानों में पानी भरने से दुकानदारों ने नगर निगम के प्रति नाराजगी व्यक्त की है। फैजुल्लागंज में सड़कें तालाब बन गईं। यहां पर लोग घरों में कैद हो गए। इसके अलावा त्रिवेणीनगर, रवीन्दपल्ली, अलीगंज, विकासनगर, कृष्णानगर, बुद्धेश्वर, समेत ज्यादातर इलाकों में लोगों को जलभराव की समस्या से जूझना पड़ा।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Roads become ponds in the final monsoon rains people upset