Wednesday, January 26, 2022
हमें फॉलो करें :

मल्टीमीडिया

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ उत्तर प्रदेश लखनऊसंशोधित कॉपी....पहली कॉपी में कुछ गलती गई है

संशोधित कॉपी....पहली कॉपी में कुछ गलती गई है

हिन्दुस्तान टीम,लखनऊNewswrap
Mon, 29 Nov 2021 03:20 PM
संशोधित कॉपी....पहली कॉपी में कुछ गलती गई है

शकुंतला मिश्रा विवि- दीक्षांत समारोह:::::::: डिजिटल के लिए

पूरी हुइ दीक्षा, मिला मेहनत का फल

-डॉ. शकुंतला मिश्रा राष्ट्रीय पुनर्वास विश्वविद्यालय में आठवें दीक्षांत समारोह का आयोजन

-115 छात्र-छात्राओं को दिए गए 145 मेडल

-मेडल वाले वाले मेधावियों में 12 दिव्यांग छात्र-छात्रा शामिल

लखनऊ। वरिष्ठ संवाददाता

डॉ. शकुंतला मिश्रा राष्ट्रीय पुनर्वास विश्वविद्यालय का आठवां दीक्षांत समारोह सोमवार को आयोजित किया गया। विश्वविद्यालय के अटल प्रेक्षागृह में हुए इस समारोह की अध्यक्षता राज्यपाल और विवि की कुलाधिपति आनंदीबेन पटेल ने की। वहीं मुख्य अतिथि के रूप में शांति स्वरूप भटनागर पुरस्कार से सम्मानित, आईआईटी दिल्ली के पूर्व प्रोफेसर और सेंटर फॉर लैबोरेटरी एक्रेडिएशन के अध्यक्ष प्रो. विक्रम कुमार मौजूद थे। साथ ही दिव्यांगजन सशक्तिकरण विभाग उप्र के मंत्री अनिल राजभर, अपर मुख्य सचिव हेमन्त राव, कुलपति प्रो. राणा कृष्णपाल सिंह, कुलसचिव अमित कुमार सिंह भी मंच पर मौजूद रहे।

शैक्षिक शोभायात्रा के प्रेक्षागृह में प्रवेश करने के साथ शुरू हुए इस दीक्षांत समारोह में 115 छात्र-छात्राओं को मेडल दिए गए। वहीं इस सत्र में उत्तीर्ण हुए 1629 छात्र-छात्राओं को डिग्रियां दी गईं। चांसलर्स गोल्ड मेडल बीटेक की छात्रा अर्पिता कुमारी को, चांसलर्स सिल्वर मेडल बीटेक के शिवम कुमार को और चांसलर्स ब्रॉन्ज मेडल एमएससी के प्रभात सिंह को दिया गया। समारोह में विशेष रूप से बचपन डे केयर स्कूल की पांच दिव्यांग बच्चियों और स्पर्श विद्यालय की 30 दिव्यांग छात्राओं को वस्त्र, फल आदि दिए गए। कार्यक्रम का मुख्य आकर्षण रहीं यहां की पूर्वछात्रा हिमानी बुन्देला, जिन्होंने कौन बनेगा करोड़पति के वर्तमान सीजन की पहली करोड़पति बनने का गौरव हासिल किया है। उन्हें दीक्षांत समारोह में 21 हजार रुपए, अंगवस्त्र आदि देकर सम्मानित किया गया।

तो फिर से नया सवेरा है...

अपने विश्वविद्यालय में सम्मान पाकर पूर्वछात्रा हिमानी बुन्देला ने मंच से कहा, 'लो कहते हैं, कि दृष्टि के बिना जीवन में अंधेरा है, मैंने मुस्कुरा कर कहा, यदि दृष्टिकोण में नई सोच हो, तो फिर से नया सवेरा है।' हिमानी ने यहां दिव्यांगजन सशक्तिकरण मंत्री से यह भी कहा कि वह दिव्यांगजनों की बेहतरी के लिए काम करना चाहती हैं। इसमें विभाग उनका मार्गदर्शन करे कि वह किस तरह से सहयोग कर सकती हैं।

epaper

संबंधित खबरें