DA Image
हिंदी न्यूज़ › उत्तर प्रदेश › लखनऊ › ऊर्जा प्रबंधन की दोषपूर्ण नीतियों के कारण हो रहा राजस्व घाटा
लखनऊ

ऊर्जा प्रबंधन की दोषपूर्ण नीतियों के कारण हो रहा राजस्व घाटा

हिन्दुस्तान टीम,लखनऊPublished By: Newswrap
Mon, 11 Oct 2021 08:15 PM
ऊर्जा प्रबंधन की दोषपूर्ण नीतियों के कारण हो रहा राजस्व घाटा

- राज्य विद्युत परिषद जूनियर इंजीनियर्स संगठन की बैठक सम्पन्न

- संगठन के सदस्यों ने शक्ति भवन पर क्रमिक अनशन किया

लखनऊ। वरिष्ठ संवाददाता

राज्य विद्युत परिषद जूनियर इंजीनियर्स संगठन ने ऊर्जा प्रबंधन की दोषपूर्ण नीतियों के कारण राजस्व घाटे का आरोप लगाया है। संगठन के पदाधिकारियों ने सोमवार को वर्चुअल माध्यम से केंद्रीय संचालन समिति की बैठक की। इस अवसर पर संगठन के केंद्रीय महासचिव जय प्रकाश ने बताया कि ऊर्जा क्षेत्र में घाटे का कारण दोषपूर्ण नीतियां हैं न कि विद्युतकर्मी। संगठन के सदस्य पूरी ईमानदारी और निष्ठा के दोगुनी मेहनत से कार्यकर सरकार की नीतियो को क्रियान्वित कर रहे हैं। इसके बावजूद संगठन की जायज मांगों की उपेक्षा किया जाना बेहद चिंतनीय है।

वहीं संगठन के अध्यक्ष जीवी पटेल ने बताया कि संगठन संवाद के माध्यम से समाधान की नीति पर विश्वास करता है। इसके बावजूद वार्ताओं में बनी सहमतियों और समझौतों से बार-बार मुकरना और नियमों की अनदेखी कर जूनियर इंजीनियर/प्रोन्नत अभियन्ताओं के लगातार आर्थिक मानसिक उत्पीड़न से स्थितियां खराब हो रही हैं। वहीं संगठन के सदस्यों ने सोमवार को भी शक्ति भवन पर क्रमिक अनशन किया। इस अवसर पर एसबी सिंह, केदार नाथ शुक्ल, अनिल पाठक, एमए आलम, वाईएन सिंह व अनिल कुमार वर्मा सहित कई सदस्यों ने हिस्सा लिया।

संबंधित खबरें