DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दलित पिछड़ों में आपस में लड़ाने की साजिश

default image

विशेष संवाददाता-राज्य मुख्यालयआरक्षण बचाओ संघर्ष समिति ने कहा है कि प्रदेश सरकार द्वारा तैयार किए जा रहे कोटे में कोटा का प्रस्ताव दरअसल दलितों व पिछड़ों को आपस में लड़ाने की साजिश है। समिति के संयोजक मण्डल की रविवार को एक आवश्यक बैठक सम्पन्न हुई, जिसमें उ.प्र. सरकार द्वारा दलितों और पिछड़ों के आरक्षण में कोटा में कोटा करने की सरकार की साजिश का आरक्षण समर्थकों ने एक सुर में विरोध किया गया । यह प्रस्ताव पास किया कि सरकार पहले जातिगत आधार पर जनगणना का खुलासा करे और यदि आरक्षण में बंटवारा करना जरूरी है, तो सभी जातियों की जिसकी जितनी संख्या है उसके आधार पर आरक्षण का बंटवारा कर दिया जाए। जिसकी जितनी संख्या भारी, उसकी उतनी भागीदारी पर सरकार को बात करना चाहिए। केवल दलितों और पिछड़ों में आपस में संघर्ष को जन्म देने के लिए इस प्रकार के फैसले की साजिश करना पूरी तरह संविधान विरोधी है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Reservation