DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

शोध : आलू चिप्स और फ्रेंच फ्राइज से कैंसर का खतरा

अगर आप आलू चिप्स और फ्रेंच फ्राइज के शौकीन हैं तो यह खबर आपके लिए हैं। यह शौक जानलेवा साबित हो सकता है। इन दोनों खाद्य पदार्थों के सेवन से कैंसर का खतरा है। डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम प्राविधिक विश्वविद्यालय के एक शोध में इसका खुलासा हुआ है। लोकल हो या ब्रांडेड दोनों तरह के आलू चिप्स और फ्रेंच फ्राइज में जहरीला पदार्थ एक्रेलाइड मौजूद है, जिससे कैंसर होने की संभावना काफी अधिक होती है। 
एकेटीयू के रिसर्च एंड डेवलपमेंट सेल के डीन प्रो. एमके दत्ता ने इस पर शोध किया है। प्रो. दत्ता ने बताया कि इसके सैंपल सीएसआईओ और सीएसआईआर लैब चंडीगढ़ से लिए गए थे। जब शोध की प्रक्रिया पूरी हुई तो पता चला कि आलू चिप्स और फ्रेंच फ्राइज को अधिक तापमान पर तलने(फ्राई) करने पर एक नए तत्व ‘एक्रेलाइमाइड’ की उत्पत्ति होती है। प्रो. दत्ता के मुताबिक यह एक जहरीला पदार्थ है। इससे सीधे तौर पर कैंसर का कारक है। प्रस्तावित विधि से शोध में सौ फीसदी विशिष्टता के साथ 98.33 फीसदी की शुद्धता हासिल हुई। 

आधुनिक विधि से किया शोध 
प्रो. दत्ता व उनकी टीम ने यह शोध आधुनिक विधि इमेज प्रोसेसिंग से किया है। कैमरों से लैस एक मशीन का इस्तेमाल किया गया है। प्रो. दत्ता ने बताया कि इसमें कैमरे से सैंपल की अलग-अलग तस्वीरें ली गईं। बाद में सपोर्ट वेक्टर मशीन क्लासिफायर के जरिए इन तस्वीरों का अध्ययन किया गया। इसी में एक्रेलामाइड का पता चला। उन्होंने बताया कि शोध की यह प्रक्रिया आसान है लेकिन इसकी उपलब्धता कठिन है। इसलिए इसका महत्व और भी बढ़ जाता है। 

अंतरराष्ट्रीय जर्नल में प्रकाशित हुए शोध पत्र 
प्रो. दत्ता के शोध पत्र कई अंतरराष्ट्रीय जर्नल में प्रकाशित हो चुके हैं। उन्होंने बताया कि ‘कम्प्यूटर एंड इलेक्ट्रॉनिक्स इन एग्रीकल्चर’ में दो शोधपत्र प्रकाशित हुए हैं। वहीं एलडब्ल्यूटी फूड साइंस एंड टेक्नोलॉजी जर्नल में एक शोधपत्र प्रकाशित हुआ है। इसके अलावा इस शोधपत्र को 38 आईईईई इंटरनेशनल कांफ्रेंस ऑन टेलीकम्युनिकेशंस एंड सिंगल प्रोसेसिंग, प्राग में भी प्रस्तुत किया गया है। 

मोबाइल एप से डिटेक्ट होगा एक्रेलामाइड
प्रो. दत्ता ने बताया कि अभी तक कैमरों से तस्वीरों को क्लिक कर शोध किए जा रहे हैं। यह शोध भी इसी आधार पर किया गया है। लेकिन अब प्रो. दत्ता इस विधि को और आसान और आधुनिक करने जा रहे हैं। उन्होंने बताया कि वे एक मोबाइल एप तैयार कर रहे हैं। इस एप के जरिए फोटो क्लिक कर आसानी से खाद्य पदार्थों में मौजूद तहरीले पदार्थों की पहचान की जा सकेगी। इस एप पर काम जारी है। जल्द ही एप बनकर तैयार हो जाएगा। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Research: Potato Chips and French Risk of Cancer