DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तर प्रदेश  ›  लखनऊ  ›  एंटीबॉडी नहीं बनने पर मुकदमा लिखाने पहुंचा थाने

लखनऊएंटीबॉडी नहीं बनने पर मुकदमा लिखाने पहुंचा थाने

हिन्दुस्तान टीम,लखनऊPublished By: Newswrap
Tue, 01 Jun 2021 03:01 AM
एंटीबॉडी नहीं बनने पर मुकदमा लिखाने पहुंचा थाने

लखनऊ। संवाददाता

कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए बनाई गई वैक्सीन पर संदेह जताते हुए एक व्यक्ति ने आशियाना थाने में तहरीर दी है। आरोप है कि पहली डोज लगवाने के बाद भी शरीर में एंटीबॉडी तैयार नहीं हुई है। उल्टे वैक्सीन लेने के बाद प्लेटलेट्स घट गई हैं। एसीपी कैंट अर्चना सिंह ने सीएमओ कार्यालय से जांच में सहयोग मांगा है। रिपोर्ट के आधार पर कार्रवाई होगी।

आशियाना निवासी प्रतापचंद्र के मुताबिक आठ अप्रैल को उन्होंने वैक्सीन की पहली डोज लगवाई थी। प्रताप के अनुसार डाक्टरों ने उन्हें बताया था कि पहली वैक्सीन लगने के बाद उनके शरीर पर एंटीबॉडी बनना शुरू हो जाएंगी। जिससे संक्रमण का खतरा कम होगा। उन्हें दूसरी डोज 28 अप्रैल को लगाई जानी थी। लेकिन आईसीएमआर की तरफ से दिशा निर्देश जारी कर पहली और दूसरी डोज के बीच का समय बढ़ा दिया गया। प्रताप के मुताबिक 25 मई को उन्होंने एंटीबॉडी टेस्ट कराया था। जिसकी रिपोर्ट देख कर वह हैरान रह गए। प्रताप के अनुसार उनके शरीर में एंटीबॉडी बनने की जगह प्लेटलेट्स कम हो गई। ऐसे में उनके संक्रमण की चपेट में आने का खतरा बढ़ गया है।

प्रताप के मुताबिक उन्हें धोखे में रखकर गलत जानकारी देते हुए वैक्सीन लगाई गई है। इस संबंध में प्रतापचंद्र ने आशियाना थाने में तहरीर दी है। एसीपी कैंट के मुताबिक तहरीर के संबंध में विशेषज्ञों से राय ली गई है। सीएमओ आफिस से जांच कर रिपोर्ट भेजने का आग्रह किया गया है। उन्होंने बताया कि सीएमओ दफ्तर से रिपोर्ट के आधार पर ही कार्रवाई की जाएगी।

संबंधित खबरें