अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

राशन वितरण फेल, 12वें दिन भी नहीं मिला राशन

लखनऊ। निज संवाददाता

आधा महीना बीतने को है और गरीबों को राशन नसीब नहीं हुआ है। बुधवार को भी वितरण व्यवस्था फेल होने के साथ राजधानी के छह लाख परिवार अब महंगा गेहूं-चावल खरीदने को मजबूर हो गए हैं। सस्ते राशन की आस में हर रोज यह लोग कोटे की दुकानों पर लाइन लगा रहे हैं। घंटो इंतजार के बाद, खाली झोला लेकर लौट जाते हैं। राशन न मिलने से झुलझ़ुलाए लोगों और कोटेदारों के बीच तीखी नोकझोक भी हो रही है। प्रशासन इसे नेटवर्क की खराबी बता कर अपनी जिम्मेदारी से मुक्त हो जाता है।

राशन का वितरण हर माह की पांच तारीख से शुरू हो जाता है। चूंकि इस महीने एफसीआई से राशन उठान का जिम्मा आवश्यक वस्तु निगम से छीनकर खाद्य विभाग की विपणन शाखा को सौंपा गया। वहीं इधर आधार कार्ड के जरिए बढ़ा राशन घोटाला भी लखनऊ समेत प्रदेश के 45 जिलों में सामने आया। फिर क्या आपूर्ति विभाग अपने कील-कांटे दुरुस्त करने में जुट गया। विरोध में कोटेदार भी हडताल पर चले गए। प्रशासन ने कहा कि अब 11 से 13 सितम्बर तक अधिकारी की मौजूदगी में राशन वितरण होगा।

कई जगह भिड़े कार्डधारक व कोटेदार

सस्ते राशन की चाह में कार्डधारक पांच तारीख से ही कोटेदार के चक्कर लगा रहे हैं। इधर दो दिनों से तो दुकानों पर सुबह से ही लम्बी कतारे लग रही हैं। लेकिन घंटो इतजार के बाद भी राशन नहीं मिल रहा। कार्डधारक कोटेदारों को खरी खोटी सुना रहे हैं। कई जगह कोटेदारों और कार्डधारकों के बीच खूब कहासुनी हुई, मारपीट की नौबत आ गई। इससे कोटेदार और कार्डधारक दोनों परेशान हो गए हैं। एडीएम (आपूर्ति) चन्द्र प्रकाश बताते हैं कि कुछ स्थानों पर पॉश मशीन न चलने की शिकायत मिली है। तकनीकी दिक्कत आ रही है। जहां चली वहां वितरण हुआ है। वहीं विभाग के अधिकारियों की माने तो अभी तक स्टेट डाटा सेंटर का अपडेशन नहीं हो पाया है। यही वजह है कि पॉश मशीने नहीं चल रही। वितरण ठप पड़ा है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:ration