DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

वितरण की राह में पॉश मशीने बनी रोड़ा

राशन वितरण की राह में पॉश मशीन रोड़ा बन गई है। मशीन न चलने से कार्डधारक से लेकर कोटेदार तक सभी परेशान हैं। सैकड़ो दुकानों पर तो घंटो लाइन में लगने के बाद भी कार्डधारकों को राशन नहीं मिल पा रहा है। कहीं मशीन बार-बार ट्राई एगेन दिखती है। तो कहीं टाइम आउट। कोटेदारों की शिकायतों के बावजूद हर रोज वितरण के दौरान मशीन फेल हो रही है। इसे देखते हुए अब एआरओ से अपने क्षेत्र की दुकानों पर राशन वितरण की रिपोर्ट मांगी गई है। साथ ही वितरण की निगरानी करने को कहा गया है।

वितरण शुरू होने से लेकर अभी तक बीते पांच दिनों में पॉश मशीन ने हर रोज धोखा दिया है। चिनहट से लेकर राजाजीपुरम तक और आलमबाग से लेकर त्रिवेणी नगर तक कोटेदार इससे परेशान हो गए हैं। मशीन न चलने के कारण सैकड़ो कार्डधारक तो बीते तीन दिनों से लाइन में लगने के बावजूद राशन नहीं मिल पाया है। शनिवार को भी पॉश मशीन दोपहर 12 बजे के बाद शुरू हुई। इसके बाद भी मशीन रूक -रूक कर चली। अधिकारी सर्वर की फाल्ट बताकर अपना पल्ला झाड रहे हैं।

पांच दिनों में 20 फीसदी कार्डधारकों को मिला राशन

बीते पांच दिनों में मात्र 20 फीसदी कार्डधारकों को ही राशन मिल सका है। जबकि मौजूदा समय में शहरी क्षेत्र में 3.98 लाख राशन कार्ड धारक हैं। कार्डधारक की पहचान बताने वाली पॉश मशीने वितरण शुरू होने के दिन से ही धोखा दे रही है। कोटेदारों की माने तो एक दिन में औसतन तीन घंटे ही मशीन चल पा रही है। इससे राशन लेने आए लोगों को घंटो लाइनों के खड़े रहने के बाद भी राशन नहीं मिल पा रहा है। इसका परिणाम है कि अभी तक मात्र 60 हजार लोगों को ही राशन मिल सका है। सर्वर व मशीन की समस्या को देखते हुए मशीन लगाने वाली एजेंसी विजन टेक को नोटिस भी जारी हो चुकी है। इसके बावजूद व्यवस्था में सुधार नहीं हुआ। डीएसओ केएल तिवारी का कहना है कि सर्वर की दिक्कत है। एक-दो दिनों में मशीने तेजी के काम करना शुरू कर देंगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:ration