DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ट्रेन में मरीज देखने की फीस बढ़ी रसीद न मिलने पर यात्रियों में रोष

ट्रेन में मरीज देखने की फीस बढ़ी रसीद न मिलने पर यात्रियों में रोष

रेलवे ने चलती ट्रेन में मरीज देखने की फीस बढ़ा दी है लेकिन इस फीस की रसीद यात्रियों को नहीं दी जा रही है। इसको लेकर रेलवे डाक्टर और यात्री दोनों ही परेशान है। ऐसे में कई बार डाक्टरों को मरीज देखने के बाद बिना फीस के ही उनको छोड़ देना पड़ रहा है।

रेलवे बोर्ड ने चलती ट्रेन में मरीज का इलाज करने वाले डाक्टरों की फीस बढ़ा दी है। पहले मरीज देखने के डाक्टर बीस रुपए लेते थे। अब ये फीस बढ़ा कर 100 रुपए कर दी गई है। जानकारों की मानें तो पहले ट्रेन में तबीयत बिगड़ने पर डाक्टर उसको दवा उपलब्ध कराते थे और फीस कम होने की वजह से कभी-कभी नहीं भी लेते थे लेकिन अब फीस पांच गुना तक अधिक हो गई है। फीस बढ़ने के साथ ही यात्रियों ने डाक्टरों से उसकी रसीद भी मांगना शुरू कर दी है। रेलवे की ओर से डाक्टरों को कोई फीस रसीद जारी नहीं की गई है। ऐसे में कई बार यात्रियों और डाक्टरों की बहस भी हो जाती है। रेल कर्मचारियों के मुताबिक कई बार यात्री रसीद की मांग को लेकर अड़ जाते हैं। इससे डाक्टरों को अपनी जेब से फीस भरना पड़ रही है।

दिन में एक दर्जन से अधिक आते हैं केस

रेल कर्मचारियों के मुताबिक ट्रेन में अधिकतर सिर में दर्द, उल्टी, पेट दर्द व चोट लगने की सबसे अधिक शिकायतें आती है। रोजाना करीब एक दर्जन से अधिक शिकायतें दर्ज की जाती है। इन केसों को रेलवे डाक्टर अटेंड करते है और अपनी ओर से यात्रियों को दवा भी उपलब्ध कराते हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:railway