DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

रायबरेली :मन की बात में तौधकपुर का जिक्र होते ही झूम उठा गांव

मन की बात में तौधकपुर का जिक्र होते ही झूम उठा गांव

रायबरेली हिन्दुस्तान संवाद

मन की बात में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जिले के पहले स्मार्ट ग्राम तौधकपुर का जिक्र विस्तार से किया। इसी के साथ ही जिले की यह ग्रामसभा देश दुनिया में चर्चित हो गई। गांव और जिले में कई जगह प्रधानमंत्री की मन की बात बड़े चाव से सुनी गई। जैसे ही मन की बात कार्यक्रम में गांव और अपने लाल (रजनीश शंकर बाजपेई ) का जिक्र आया तो गांव वाले खुशी से झूम गए। सबने खुशी का इजहार अपने अपने ढंग से किया और प्रधान को बधाईयों का सिलसिला भी मोबाइल पर चालू हो गया।

देश दुनिया के नक्शे पर अपने छोटे से गांव को लाने में जतन करने वाले अमेरिका में रह रहे रजनी शंकर बाजपेई ग्राम प्रधान कार्तिकेय शंकर बाजपेई के छोटे भाई हैं। उन्होंने ही गांव को स्मार्ट ग्राम को सबसे पहले खुले में शौच से मुक्त करने के लिए गांव भर में सार्वजनिक स्थानों पर अपने पैसे से सीसीटीवी कैमरे और जागरूकता के लिए लाउडस्पीकर सिस्टम लगाया।प्रधान कार्तिकेय शंकर बाजपेई बताते हैं कि ग्राम सभा के अधिकांश बिजली के खंभों पर लगाए गए लाउडस्पीकरों के माध्यम से गांव वालों को खुले में शौच से परहेज के लिए प्रेरित किया गया। सुबह 6:00 बजे से लाउडस्पीकर पर साफ सफाई वाले संदेश गीत के साथ-साथ महात्मा गांधी के भजन भी सुनाए जाते थे। इन्हीं लाउडस्पीकरों के माध्यम से लोगों को खुले में शौच न जाने के लिए प्रेरित किया जाता था।

जागरूकता का काम पूरा होने के बाद सीसीटीवी कैमरे के माध्यम से लोगों को खुले में शौच जाते पकड़ा भी गया। कुछ लोगों पर अर्थदंड भी ग्राम सभा ने लगाया। जागरूकता के इस अभियान को गति तत्कालीन मुख्य विकास अधिकारी देवेंद्र कुमार पांडे ने दी। उन्होंने ग्राम प्रधान और ग्राम वासियों के सहयोग से 48 घंटे में 400 से ज्यादा शौचालय बनवाने का उत्तर प्रदेश में रिकार्ड कायम कराया। वर्तमान में इस ग्राम सभा के दोनों मजरे खुले में शौच से पूरी तरह मुक्त है।

गांव का प्राइमरी स्कूल भी स्मार्ट: गांव का प्राइमरी स्कूल पूरी तरह से स्मार्ट है। बाहर से देखने से यह कतई नहीं लगता कि यह सरकारी स्कूल है। बेसिक शिक्षा विभाग ने यहां के प्राइमरी स्कूल को इंग्लिश मीडियम का दर्जा भी दे दिया है। इस स्कूल के कायाकल्प में प्रवासी भारतीय रजनीश शंकर और उनके भाई कार्तिकेय शंकर बाजपेई ने अपनी जेब के 100000 से अधिक की राशि लगा दी।

गांव तो स्मार्ट पर सड़क बदहाल: तौधकपुर ग्राम सभा तो निजी और सरकारी प्रयासों के चलते स्मार्ट हो चुकी है लेकिन गांव जाने वाली रोड पूरी तरह से बदहाल है। यह स्मार्ट ग्राम रेल कोच फैक्ट्री से लालगंज तहसील को जाने वाले संपर्क मार्ग पर बसा है। कहने के लिए लोक निर्माण विभाग में इसके गड्ढों में पैचिंग करा दी है लेकिन यह पैच भी ओखा का ध्वस्त हो चुके हैं।

कौन है रजनीश शंकर बाजपेई: प्रधानमंत्री ने मन की बात में प्रवासी भारतीय जिन रजनीश शंकर बाजपेई का नाम लिया वह स्मार्ट ग्राम रायबरेली जनपद के तौधकपुर के मूल निवासी है। ट्रिपल आईटी हैदराबाद से एमटेक करने वाले रजनीश शंकर अमेरिका के कैलिफोर्निया प्रांत के माउंटेन व्यू शहर में सिनोप्सिस इंफर्मेशन कंपनी में सीनियर टेक्निकल प्रोग्राम मैनेजर है। करीबन 7 वर्ष पहले वह अमेरिका गए थे। अमेरिकी जीवन से प्रेरणा लेकर ही रजनीश शंकर बाजपेई ने गांव को स्मार्ट बनाने का बीड़ा उठाया और स्मार्ट ग्राम नाम से ऐप भी बनाया। उन्होंने अपनी जेब के करीब 500000 गांव के विकास पर लगा दिए। रजनीश आज भी अपने बड़े भाई और ग्राम प्रधान कार्तिकेय शंकर बाजपेई को गांव के विकास में आर्थिक और तकनीकी सहयोग प्रदान कर रहे हैं।

महाकाल के दर्शन का मिला तोहफा: ग्राम प्रधान कार्तिकेय शंकर बाजपेई सहकारी बैंक के अध्यक्ष विजय प्रताप सिंह उर्फ पप्पू लोहिया के साथ महाकाल के दर्शन के लिए उज्जैन में थे। जब उनको यह सूचना मिली थी कि प्रधानमंत्री ने ग्राम सभा का विस्तार से जी मन की बात में किया है। उन्होंने कहा कि महाकाल के दर्शन का तोहफा इतने बड़े रूप में मिलेगा इसका विश्वास ही नहीं था।

कोट

जनपद के लिए यह गर्व की बात है कि प्रधानमंत्री ने मन की बात में तौधकपुर गांव का नाम स्मार्ट गांव का उदाहरण दिया। जिले के प्रधानों को प्रेरणा लेकर अपने गांवों को स्मार्ट ग्राम बनाने के लिए सोचना चाहिए। राकेश कुमार शुक्ला मुख्य विकास अधिकारी

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Rae Bareli: the mention of Taudhkpur in PM's Man Ki Bat, villagers happy