DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पीएनजी की पाइप लाइन फटी, गोमती नगर व इंदिरा नगर में ठप हुई सप्लाई

शहर में तीन स्थानों पर खोदाई के दौरान पीएनजी की पाइप लाइन फट (पंचर) गई। एक निजी टेलीकॉम कम्पनी द्वारा ऑप्टिकल फाइवर केबल (ओएफसी) बिछाने के लिए खोदाई किए जाने के कारण पीएनजी की पाइप लाइन फटी। गैस रिसाव होने से कहीं कोई हादसा तो नहीं हुआ लेकिन गोमती नगर और इंदिरा नगर के करीब एक हजार घरों में बुधवार सुबह से सप्लाई ठप हो गई। जिससे इन घरों में खाना पकाने का संकट खड़ा हो गया। कम्पनी का दावा है कि पाइप लाइन दुरुस्त हो गई है। देर रात सप्लाई शुरू कर दी गई। ग्रीन गैस के मुताबिक मंगलवार देर रात एक टेलीकॉम कम्पनी द्वारा ओएफसी डालने के दौरान गोमती नगर, विभूति खंड में रोडवेज वर्कशॉप के सामने एसबीआई के सामने पीएनजी की पाइप लाइन पंचर हो गई। खोदाई कर रहे कर्मचारी भाग गए। इससे गोमती नगर के विभूति खंड, पारस नाथ, एल्डिको, रोहितास,ओमेक्स के अलावा विशेष खंड से लेकर इंदिरा नगर तक घरों में पीएनजी की सप्लाई ठप हो गई। शिकायत हुई तो पता चला कि पाइप लाइन फट गई है। इसके बाद पीएनजी की सप्लाई भी रोकी गई। ग्रीन गैस द्वारा रास्ता रोक कर विभूति खंड में एसबीआई बैंक समेत तीन स्थानों पर खुदाई कराई गई। तब जाकर पंचर पकड़ में आया। मुख्य प्रबंधक (मार्केटिंग) सूर्य प्रकाश गुप्ता ने बताया कि पीएनजी लाइन पंचर होने के साथ ही सीवर लाइन भी टूट गई है। पीएनजी पाइप लाइन का पंचर ठीक कर लिया गया है। सप्लाई शुरू कर दी गई। ग्रीन गैस अब टेलीकॉम कम्पनी के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराएगी। आशियाना में दो जगह पंचर हुई पीएनजी लाइन ओएफसी डालने के दौरान आशियाना के सेक्टर-एम और साउथ सिटी में भी दो जगह पीएनजी पाइप लाइन पंचर हुई। जानकारों के मुताबिक मंगलवार रात टूटी इस पाइप लाइन की कम्पनी ने गुपचुप तरीके से मरम्मत करा दी। मुख्य प्रबंधक (मार्केटिंग) सूर्य प्रकाश गुप्ता बताते हैं कि आशियान में बहुत छोटा पंचर होने के कारण गैस सप्लाई बाधित नहीं हुई। इसे दुरुस्त कर लिया गया है। 15 दिनों में 12 बार पंचर हुई लाइन ग्रीन गैस का आरोप है कि इधर बीते एक पखवारे में टेलीकॉम कम्पनी द्वारा ओएफसी डाले जाने से 12 बार पीएनजी पाइप लाइन पंचर हुई है। इससे कम्पनी को काफी नुकसान हुआ है। कम्पनी के अधिकारियों का कहना है कि खोदाई के दौरान न तो ग्रीन गैस से अनुमति ली जाती है न ही कोई जानकारी दी जाती है। जबकि पीएनजी की पाइप लाइन जिधर से गई है वहां पर ऊपर पत्थर के मार्कर हर 100 मीटर पर लगाए गए हैं। इन पर फोन नम्बर भी लिखे हैं। प्रशासन ने की पूछताछ पीएनजी की लाइन टूटने की जानकारी होने पर एडीएम आपूर्ति ने ग्रीन गैस कम्पनी से पूछताछ की। इसके बाद कम्प्नी ने प्रशासन से खोदाई करने वाली टेलीकॉम कम्पनियों, बिजली व सीवर लाइन डालने वाले विभागों के साथ समन्वय के लिए एक बैठक कराए जाने का अनुरोध किया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:PNG PIPE line lekege