अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पीएम ग्रामीण सड़क में लापरवाही 26 अभियंताओं से जवाब तलब

प्रधानमंत्री ग्रामीण सड़क योजना (पीएमजीएसवाई) के 164 मार्गों के अनुरक्षण कार्य में लापरवाही पर उत्तर प्रदेश ग्रामीण सड़क विकास अभिकरण के 26 जिलों के अधिशासी अभियंताओं से जवाब तलब किया गया है। ठेकेदारों से तत्काल इन मार्गों को ठीक करने को कहा गया है।

ग्राम्य विकास आयुक्त व मुख्य कार्यपालक अधिकारी पीएमजीएसवाई एनपी सिंह ने मंगलवार को संपर्क मार्गों के अनुरक्षण कार्यों की समीक्षा की। अधिकारियों को चेतावनी दी कि जनहित के कार्यों में तनिक भी लापरवाही नहीं करें।

इन जिलों के अधिशासी अभियंताओं से मांगा गया स्पष्टीकरण

आजमगढ़, बलरामपुर, गौतमबुद्धनगर, गाजीपुर, झांसी, अमरोहा, जालौन, कानपुर देहात, लखीमपुर खीरी, लखनऊ, मैनपुरी, मिर्जापुर, श्रावस्ती, सीतापुर, सुल्तानपुर, वाराणसी, बांदा, बाराबंकी, फैजाबाद, जौनपुर, मुरादाबाद, मुजफ्फरनगर, रामपुर, भदोही, संभल और उन्नाव के अधिशासी अभियंताओं से स्पष्टीकरण मांगा गया है। श्री सिंह ने मुख्य विकास अधिकारियों से कहा है कि वे अनुरक्षण कार्यों की रैंडम जांच करें। स्पष्ट किया कि अनुरक्षण अवधि से पूर्व यदि कोई मार्ग क्षतिग्रस्त पाया जाता है तो इसकी जिम्मेदारी संबंधित ठेकेदार की होगी। ऐसे ठेकेदारों के खिलाफ कार्रवाई की जाए। अभियंताओं से कहा कि यदि सामान्य रूप से मार्गों का अनुरक्षण नहीं हो पा रहा है तो ऐसे मार्गों की सूचना मुख्यालय भेजी जाए। आधे अधूरे मार्गों का निर्माण कार्य पूरा करने का निर्देश दिया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:PM Rural Road