DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

'सर्दियों की रानी' की खूबसूरती से दमकी बगिया

-बॉटेनिकल गार्डेन में दो दिवसीय गुलदाउदी और कोलियस पुष्प प्रदर्शनी 2018 का शुभारंभ

-पर्यावरण वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्रालय की वरिष्ठ आर्थिक सलाहकार ने किया उदघाटन

'सर्दियों की रानी' के नाम से जानी जाने वाली गुलदाउदी और कोलियस पुष्पों की प्रदर्शनी से शनिवार को बॉटेनिकल गार्डेन की बगिया दमक रही थी। क्या महिलाएं, क्या बुजुर्ग, क्या बच्चे सभी इस पुष्प प्रदर्शनी में प्रदर्शित किये गये रंग-बिरंगे पुष्पों की अनुपम छटा के दीवाने हो गये थे। कोई इनकी खूबसूरती का बखान करते नहीं थक रहा था तो कुछ लोग इनको अपने मोबाइल कैमरों में सेल्फी के माध्यम से कैद करने में जुटा हुआ था। फूलों के बीच खुद को पाकर लोग तो 'फूलों के शहर में हो घर अपना' गीत भी गुनगुनाने पर मजबूर हो गये।

खुशनुमा मौसम और दिसम्बर का महीना कई फूलों के लिए उपयुक्त माना जाता है। गुलदाउदी भी सर्दियों के शुरू होते ही खिलने लगता है। रंग बिरंगी छटा बिखरती गुलदाउदी के बौने आकार, मध्यम आकार और बड़े फूलों की कई वैराटियां प्रचलित हैं। इनके खूबसूरत नाम जैसे बौनी किस्मों में 'येलो बेबी', 'हिमांशू', 'लिलिपुट', मध्यम फूलों में 'लालपरी' और मधुमक्खी के छत्ते की तरहदिखने वाला फूल 'मयूर' काफी पसंद किये जाते हैं। मक्खन की तरह दूर से दिखने वाला गुलदाउदी का बड़ा फूल जिसे 'सोनार बांग्ला' की उपाधि मिली हुई है आकर्षण का केन्द्र बना हुआ था। दूसरी तरफ प्रदर्शनी का राजा, प्रदर्शनी की रानी, प्रदर्शनी का राजकुमार नाम लिये गुलदाउदी के पौधों के पास भी सभी फोटो खिंचवाते हुए इन पलों को यादगार बनाने में जुटे हुए नजर आये। राष्ट्रीय वनस्पति अनुसंधान संस्थान (सीएसआईआर)के वनस्पति उद्यान स्थित सेन्ट्रल लॉन में दो दिवसीय गुलदाउदी और कोलियस प्रदर्शनी शनिवार से शुरू हो गई। शुभारंभ पर्यावरण वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्रालय भारत सरकार की वरिष्ठ आर्थिक सलाहकार डॉ. आनंदी सुब्रमण्यम ने किया। मुख्य वैज्ञानिक डॉ. एस के तिवारी और प्रधान वैज्ञानिक एनबीआर आई डॉ. अरविंद जैन ने बताया कि इस वर्ष प्रदर्शनी में कुल 132 प्रदर्शकों ने 1215 प्रविष्टियों को प्रदर्शित किया। इस प्रदर्शनी के आयोजन का प्रमुख उदेश्य पुष्पकृषि उद्योग और इसके विभिन्न पहलुओं के प्रति जनसाधारण में जागरूकता उत्पन्न करना है। यह एक सुनहरा अवसर है जहां लोगों ने फू्लों के विविध रंगों, प्रकारों, आकारों और उनके संवर्धन पद्धतियों को देखा। प्रदर्शनी शुरू होने से पूर्व विशिष्ट निर्णायकों ने विभिन्न वर्गों में प्रदर्शित प्रविष्टियों को देखा।

--------------------------------------

प्रदर्शनी में 'अटल' जी को गुलदस्ते से पुष्पमय नमन

प्रदर्शनी में लामार्टीनियर गर्ल्स कॉलेज की पांचवीं कक्षा की छात्राओं ने पुष्पों की प्रदर्शनी में अपने अलग अंदाज में पूर्व प्रधानमंत्री स्व. अटल बिहारी वाजपेयी को पुष्पमय नमन किया। इसके अलावा यहां इसी स्कूल के प्रेप ए के विद्यार्थियों ने नेत्रदान महादान का संदेश देती फूलों की झांकी प्रदर्शित की थी। फूलों से गजराज का खूबसूरत चित्रण देखते ही बन रहा था। फूलों के शहर में हो घर अपना, लखनऊ क्रिश्चियन कॉलेज की ओर से गर्व से कहो हम स्वच्छ और सुंदर देश के वासी है जैसी झांकियां यहां पेश की गई जिनको दर्शकों ने खबू पसंद किया। बेटी बचाओ का संदेश देती झांकी भी यहां देखने को मिली।

---------------------------------------

प्रदर्शनी में कुछ खास थे ये पौधे

प्रदर्शनी का राजा : रणजीत सिंह मेमोरियल ट्रॉफी। बड़े फूल वाली गुलदाउदी का एक नमूनेदार गमला जिसमें एक पौधे में एक फूल हो। को वृन्दावन योजना की मंजू शंकर लाईं थीं

---------------------

प्रदर्शनी की रानी : रणजीत सिंह मेमोरियल ट्रॉफी। छोटे फूल वाली गुलदाउदी के एक नमूनेदार गमले के लिए। ला मार्टिनीयरए लॉट एरिया से लाई गई थी।

-----------------------

प्रदर्शनी का राजकुमार : काजी सैयद मसूद हसन रनिंग चैलेंज ट्रॉफी। स्पाइडर गुलदाउदी का एक नमूनेदार गमला जिसमें एक पौधे में एक फूल हो। विराम खंड गोमती नगर की स्वाति गुप्ता लाई थीं।

---------------------

प्रदर्शनी का सर्वोत्तम कोलियस : कुमुद रस्तोगी मेमोरियल रनिंग चैलेंज ट्रॉफी। प्रदर्शनी के सर्वोत्तम कोलियस पौधे के नमूने वाले गमले के लिए। हेड क्वाटरए मध्य कमान कैंट से लाई गई थी।

---------------------------

आज विजयी प्रतिभागियों को मिलेंगे पुरस्कार

रविवार सुबह 10 बजे से शाम छह बजे तक जनता के लिये प्रदर्शनी खुली रहेगी। समापन समारोह रविवार को शाम चार बजे होगा जिसमे विजयी प्रतिभागियों को पुरस्कार वितरित किये जाएंगे। कैबिनेट मंत्री आशुतोष टंडन समापन समारोह के मुख्य अतिथि होंगे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:phool