class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कामकाज::::तीन कर्मचारियों के सेवानिवृत्ति की नोटिस से कर्मचारी नेताओं में आक्रोश

-डेढ़ दर्जन से अधिक अन्य कर्मचारियों को नोटिस देने की तैयारी

लखनऊ। निज संवाददाता

पीजीआई प्रशासन ने संस्थान में 50 वर्ष की उम्र पार कर चुके तीन कर्मचारियों को अनिवार्य सेवानिवृत्ति की नोटिस दी है। कमेटी ने इन कर्मचारियों पर आरोप लगाया है कि ये तीनों कर्मचारी काम के प्रति गंभीर नही है। इनके खिलाफ बकायदा विभागध्यक्षों ने लिखकर दिया है। इस कार्रवाई से नाराज संस्थान के आधा दर्जन कर्मचारी संगठनों ने सामूहिक रूप से नोटिस का विरोध किया है। संस्थान के हजारों कर्मचारी डरे हुए हैं। सूत्रों के मुताबिक प्रशासन ने डेढ़ दर्जन से अधिक अन्य कर्मचारियों की सूची तैयार की है। जिन्हें अनिर्वाय सेवानिवृत्ति की नोटिस दी जानी है। 50 वर्ष की उम्र पार कर चुके संस्थान सैकड़ों कर्मचारी घबराए हुए हैं कि कहीं सूची में उनका नाम तो नहीं है।

गुरुवार को संस्थान की न्यू ओपीडी, वार्ड व अन्य विभागों में नोटिस की ही चर्चा होती रही। अनिवार्य सेवानिवृत्ति देने के लिए संस्थान के निदेशक डॉ. राकेश कपूर ने चार सदस्यों वाली कमेटी गठित की थी। कर्मचारी महासंघ पीजीआई की अध्यक्ष सावित्री सिंह व महामंत्री एसपी यादव, एनएसए अध्यक्ष सीमा शुक्ला व महामंत्री सुजान सिंह, पीजीआई कर्मचारी महासंघ के अध्यक्ष सतीश मिश्रा व महामंत्री राम कुमार सिन्हा ने निदेशक व अपर निदेशक से वार्ता कर नोटिस पर पुर्नविचार करने की बात कही है। साथ ही अन्य कर्मचारी नेता अजय कुमार सिंह, एसपी राय, धर्मेश कुमार, सीएल वर्मा, केके तिवारी, राजेश शर्मा, मदन सिंह, तुलसी झा, महिपाल, अमर सिंह, अजय कुमार श्रीवास्तव व अशोक सिंह समेत तमाम नेताओं ने इस कार्रवाई का विरोध किया है। नेताओं का कहना है कि यदि जो कर्मचारी काम नहीं कर रहा है उसका तबादला दूसरे स्थान पर कर दिया जाए। न कि उसे बाहर किया जाए। 50 वर्ष की उम्र पार करने वाले कर्मचारियों के उत्पीड़न का संस्थान के समस्त कर्मचारी नेता विरोध करेंगे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:pgi
लोहिया विधि विवि में 18 से लाइब्रेरी पर कार्यशालाकपिल सिब्बल को पार्टी से निकाला जाए-सिराज मेहदी