Parivahan - मेट्रो रूट पर आटो प्रतिबंधित तो चक्का जाम होगा DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मेट्रो रूट पर आटो प्रतिबंधित तो चक्का जाम होगा

कांट्रैक्ट कैरिज परमिट से चलने के बावजूद मेट्रो एप में आटो शामिल नहीं

दो साल बाद भी ओला-ऊबर बाइक सीएनजी में नहीं बदली, फिर भी शहर में दौड़ रही

मेट्रो रूट पर ऑटो टेम्पो बंद करने को लेकर परिवहन विभाग और लखनऊ आटो रिक्शा थ्री व्हीलर संघ (लार्टस) के बीच तनाव बढ़ गया है। दरअसल, मेट्रो ने कांट्रैक्ट कैरिज परमिट में आने वाले ओला ऊबर को अपने ऐप में शामिल करने की बात की, लेकिन इसी परमिट से चलने वाले आटो को बाहर का रास्ता दिखा दिया। इसे लेकर अब दिक्कतें बढ़ गई हैं। संघ के पदाधिकारियों ने मेट्रो रूट पर आटो प्रतिबंधित करने पर चक्का जाम कर आंदोलन करने का ऐलान किया है।

मेट्रो में सवारियां न पहुंचने में आटो रिक्शा सबसे बड़ा रोड़ा है। आम आदमियों को मेट्रो से सस्ता सफर आटो रिक्शा से मिल रहा है। मेट्रो अधिकारी के मुताबिक इसके चलते मेट्रो में सवारियों नहीं पहुंच रही हैं। नतीजतन, मेट्रो रूट पर आटो प्रतिबंधित करने की बात शुरू हो गई है। इसे लेकर लार्टस विरोध में खड़ा हो गया है और हटाए जाने पर आटो संघ के पदाधिकारी आंदोलन करने पर ऊतारू हैं।

संघ के अध्यक्ष प्रभात कुमार दीक्षित के मुताबिक इसको लेकर मुख्यमंत्री, परिवहन मंत्री, प्रमुख सचिव परिवहन, मुख्य सचिव, परिवहन आयुक्त, मंडलायुक्त, जिलाधिकारी, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक, आरटीओ और एपी ट्रैफिक को पत्र भेजा गया है। एक ही परमिट से चलने वाले दोनों कॉमर्शियल वाहनों को ऐप में जगह दी जाए। वहीं, मेट्रो रूट से आटो हटाने के बाद आम आदमी का बोझ बहुत बढ़ जाएगा।

-----------

ओला-ऊबर बाइक नहीं हुई सीएनजी

मेट्रो ऐप में ओला-ऊबर बाइक को प्राथमिकता मिली है। यह हाल तब है जब फरवरी 2017 में इसको लांच करते समय छह महीने में सीएनजी में परिवर्तित किया जाना था, लेकिन अभी तक यह पेट्रोल से ही चल रही है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Parivahan