अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

साइकिल में लगे रिफलेक्टर से कम हुए सड़क हादसे

साइकिल से सड़क हादसे में यूपी नंबर एक तो तमिलनाडु नंबर दो पर

चमचमाते रिफलेक्टर्स ने कम किए साइकिल से होने वाले हादसे

सुबह आठ से नौ व शाम तीन से छह बजे के बीच ज्यादा हुए हादसे

लखनऊ। अवनीश जायसवाल

यूपी की सड़कों पर साइकिल ट्रैक ही नहीं है, है भी तो चंद दूरी तक के लिए है। यहीं नहीं साइकिल सवार के लिए सड़क पर कोई डिजाइन भी नहीं है। यहीं वजह रही कि वर्ष 2013 तक साइकिल से होने वाले सड़क हादसे बढ़ते जा रहे थे। बढ़ते सड़क हादसे को सुप्रीम कोर्ट ने संज्ञान में लेते हुए सभी साइकिल कंपनियों को साइकिल में रिफलेक्टर लगाने की अनिवार्यता के आदेश दिए गए। इसके बाद अप्रैल 2018 में दिल्ली की एक टीम ने लखनऊ सहित चार शहरों में साइकिल में लगे रिफलेक्टर की पड़ताल की। जिसमें 93 फीसदी साइकिल में रिफलेक्टर लगे होने की रिपोर्ट पेश की गई।

इस रिपोर्ट से यह खुलासा हुआ कि बीते चार वर्षो के दौरान साइकिल में रिफलेक्टर लगे होने की वजह से सड़क हादसों में कमी दर्ज की गई। बावजूद आज भी साइकिल से सड़क हादसे में यूपी नंबर वन तो तमिलनाडु नंबर दो पर है। चमचमाते रिफलेक्टर की वजह से रात के अंधेरे में भी साइकिलें दूर से नजर आ जाती है। जिससे साइकिल सवारों के साथ होने वाले सड़क दुर्घटनाओं में कमी आई है। सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद अब रिफलेक्टर युक्त साइकिलें ही बेंची जा रही हैं। हाल में ही दिल्ली की एक टीम ने राजधानी में साइकिल बेंचने वाली दुकानों पर जाकर जब रिफलेक्टर की जांच में 96 फीसदी तक नियमों का पालन किया जा रहा है।

मोटर व्हीकल एक्ट में साइकिल शामिल नहीं

मोटर व्हीकल एक्ट में साइकिल शामिल नहीं है। सुरक्षा की दृष्टि से साइकिल में रिफलेक्टर लगाने के आदेश दिए गए थे। सुप्रीम कोर्ट के आदेश का पालन पूरे देश में किया जा रहा है। इससे साइकिल सवारों के साथ देर रात होने वाली दुर्घटनाओं में कमी आई है।

गंगाफल, अपर परिवहन आयुक्त

सड़क सुरक्षा सेल, परिवहन विभाग

यूपी में साइकिल से सड़क हादसे एक नजर में

वर्ष 2014-717

वर्ष 2015- 418

वर्ष 2016- 392

वर्ष 2017- 385

चार शहरों में हुए साइकिल निरीक्षण रिपोर्ट

शहर साइकिलें रिफलेक्टर लगा मिला

लखनऊ 45 42

कानपुर 51 49

आगरा 39 22

गाजियाबाद 42 40

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:parivahan