DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आलमबाग बस टर्मिनल की फिर खुली पोल, अफसर छुपाने में जुटे

एयरपोर्ट के तर्ज तैयार आलमबाग बस टर्मिनल बारिश के पानी से चू रहा है। छत की सीलिंग टूटकर गिर रही है। बारिश का पानी कर्मचारियों से लेकर अधिकारियों के कमरे तक पहुंच रहा है। सोमवार की सुबह जब मूसलाधार बारिश हुई तो एक बार फिर निर्माणदायी संस्था मेसर्स शालीमार मॉल्स प्राइवेट लिमिटेड की लापरवाही की पोल खुलने में देर नहीं लगी। इसके पहले 12 जुलाई को हुई बारिश में निर्माणदायी संस्था की मनमानी सामने आई थी।

परिवहन निगम के अफसर कंपनी की इस लापरवाही को दिनभर को छुपाने में जुटे रहे। एआरएम प्रशांत दीक्षित बताते है कि प्लेटफार्म नंबर 39 व 44 के छत की सीलिंट टूटकर गिरी है। और बारिश का पानी भी टपक रहा है। गौरतलब हो कि बीते 25 जुलाई को क्षेत्रीय प्रबंधक पल्लब बोस प्रेस को संबोधित करते हुए मेसर्स शालीमार कंपनी की लापरवाही को दुरूस्त कराने का दावा किया गया है। जारी प्रेस विज्ञिप्त में आलमबाग बस टर्मिनल की समस्याओं को दूर करने का बखान किया गय। पर सोमवार की बारिश ने आरएम के दावे की भी पोल खोल दी।

आरटीओ आफिस डूबने से बचा-फोटो भी है

ट्रांसपोर्टनगर आरटीओ आफिस परिवहन विभाग की लापरवाही की भेंट चढ़ते चढ़ते बचा। सोमवार की हुई बारिश का पानी आरटीओ कार्यालय में घुस ही नहीं समूचा आफिस डूबने से बच गया। वहां हजारों की संख्या में आवेदकों की रखें फाइल पानी ने डूबने से बच गया। वहां मौजूद कर्मियों ने फाइल को जमीन से उठाकर अलमारी में रखा। और रोजाना सैकड़ों की संख्या में आने वाले आवेदक बाहर से ही लौट गए। बारिश के पानी से खिड़कियों पर सन्नाटा पसरा रहा। हर ओर सिर्फ बारिश के पानी से बचने की जद्दोजहद करते हुए कर्मचारी नजर आए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:parivahan