DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सोलर पालिसी के मौजूदा लक्ष्य से मिलेंगे एक लाख रोजगार

सौर उर्जा

-सीड का दावा सरकारी भवनों को सौर ऊर्जामय करने से एक लाख रोजगार सृजन होगा

-वाराणसी के सरकारी भवनों के लिए अध्ययन पूरा, लखनऊ अगले माह तक

सेंटर फॉर एन्वायरोमेंट एंड एनर्जी डेवलेपमेंट (सीड) ने कहा है कि यूपी सोलर पालिसी-2017 में तय 4300 मेगावाट के सोलर एनर्जी के लक्ष्य को हासिल करने से करीब एक लाख प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रोजगार का सृजन होगा। सरकार की इस पहल से क्लीन एनर्जी इंफ्रास्ट्रक्चर को गति मिलेगी।

सीड के क्लीन एनर्जी मैनेजर आनंद प्रभु पतंजलि ने प्रदेश सरकार द्वारा सभी सरकारी भवनों को सौर ऊजा से लैस करने के फैसले का स्वागत किया है। इस साहस भरे कदम के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को बधाई दी है। श्री पतंजलि ने कहा है कि प्रदेश सरकार की इस पहल में राज्य में क्लीन एनर्जी इंफ्रास्ट्रक्चर को प्रोत्साहन और गति देने की क्षमता है। सौर ऊर्जा से राज्य के बिजली घाटे को पूरा करने में सहायता मिलेगी।

उन्होंने कहा है कि प्रमुख शहर वाराणसी में सोलर रूफटॉप एसेसमेंट स्टडी और लखनऊ तथा आगरा शहर में चल रहे रिसर्च स्टडी में यह बात सामने आई है कि सरकारी भवन सोलर रूफटॉप टेक्नोलॉजी कीस्थापना के लिए सबसे योग्य हैं। तय समय-सीमा में प्रभावी क्रियान्वयन के साथ सोलर एनर्जी सिस्टम की युद्धस्तर पर स्थापना से सोलर रूफटॉप के टारगेट को आसानी से प्राप्त किया जा सकता है।

श्री पतंजलि ने बताया है कि सीड ने वाराणसी शहर के लिए पिछले वर्ष रूफटॉप सोलर की संभावना से संबंधित एक अध्ययन किया है, जिसके अनुसार शहर के सभी सरकारी इमारतों व भवनों में 58 मेगावाट सोलर बिजली उत्पादित करने की संभावना है। वाराणसी के 18 सरकारी भवनों जैसे सर्किट हाउस, डीएम ऑफिस, राइफल क्लब आदि और 16 पुलिस स्टेशनों की छत पर रूफटॉप सोलर प्रणाली की स्थापना पर यह स्टडी की गई है। सीड इस समय राज्य के 6 बड़े शहरों में रूफटॉप सोलर एसेसमेंट स्टडी पर काम कर रहा है। अगले महीने लखनऊ में इससे संबंधित रिपोर्ट को जारी किया जाएगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:One lakh jobs with the current goal of solar policy