DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पुरानी पेंशन कोई भीख नहीं, हमारा अधिकार है 

1 / 3

2 / 3

3 / 3

PreviousNext

पुरानी पेंशन बहाली की मांग को लेकर विभिन्न संगठनों के अफसरों और कर्मचारियों ने गुरुवार को कलक्ट्रेट स्थित धरना स्थल जाम हो गया। धरने की अध्यक्षता आरसी चौधरी ने किया। संचालन की कमान संघर्ष समिति चेरमैन आरके वर्मा व वाइस चेयरमेन विजय उपाध्याय ने संयुक्त रूप से संभाली। हजारों की भीड़ उमड़ने से सिविल लाइन-डिगिहा मार्ग पर आवागमन बाधित हो गया। सुरक्षा को लेकर पुलिस कर्मी जगह-जगह मोर्चे पर डटे रहे। अंत में पदाधिकारियों ने नगर मजिस्ट्रेट प्रदीप यादव को सीएम को सम्बोधित एक ज्ञापन भी सौंपा। 
संरक्षक व सभाध्यक्ष आरसी चौधरी ने कहा कि पुरानी पेंशन कोई भीख नहीं है, यह हमारा अधिकार है। इसके लिए कर्मचारी हर कुर्बानी देंगे। सत्ता पूर्व नेताओं की ओर से किए गए वायदा खिलाफी के विरुद्ध जिले के संगठनों ने बिगुल बजा दिया है। उन्होंने कहा कि कर्मचारी अंतिम सांस तक हक की लड़ाई लड़ेंगे। संरक्षक कृष्ण कुमार पाण्डेय ने कहा कि सरकार आने वाली कर्मचारी पीढ़ी के साथ छल कर रही है। पेंशन ही रिटायर कर्मियों के बुढ़ापे में जीवनयापन का अंतिम सहारा होता है। यह चेतावनी के लिए किया गया प्रदर्शन है। 
एक दिवसीय प्रदर्शन में राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद, प्राथमिक शिक्षक संघ, डिप्लोमा इंजीनियर्स महासंघ, राजस्व प्रशासनिक चालक महासंघ, जू.हा.स्कूल शिक्षक संघ, सांख्यिकी परिसंघ, स्टेनोग्राफर महासंघ, वित्तविहीन माध्यमिक शिक्षक संघ, संयुक्त पेंशनर समन्वयक समिति, बीईओ संघ, विशिष्ट बीटीसी संघ, विद्यालय निरीक्षक संघ, लेखपाल व अन्य सभी संगठनों के पदाधिकारियों व कर्मचारियों ने सहभागिता की। कई संगठनों ने मुख्य मार्ग से रैली भी निकाली। इस मौके पर कर्मचारी, शिक्षक, अधिकारी, पुरानी पेंशन बहाली मंच जिला यूनिट के मीडिया प्रभारी बृजेश कुमार गुप्ता के अलावा काफी संख्या में कर्मचारी मौजूद रहे। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Old Pension is not a begging we have the right