DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बारिश के पानी से भीग रहा गोदाम में रखा पोषाहार 

1 / 2

2 / 2

PreviousNext

बाल विकास परियोजना कार्यालय के गोदाम में रखा बाल पोषाहार बारिश के पानी में भीग रहा है। भवन की दीवार फटने से बारिश का पानी गोदाम में भर जाता है। गोदाम की खिड़कियां व दरवाजे टूट गए हैं। जिससे चोर पोषाहार की बोरियां उठा ले जाते हैं। भवन ढह जाने के डर से कर्मचारी उसके अन्दर बैठने से कतरा रहे हैं। 
केन्द्र व प्रदेश सरकार की ओर से गर्भवती महिलाओं व बच्चों में कुपोषण भगाने के लिए तमाम योजनाएं चलाई जा रही हैं। लेकिन जिले के आला अधिकारी इसे गंभीरता से नहीं ले रहे हैं। अधिकारियों की शिथिलता का एक उदाहरण साफ दिख रहा है। विशेश्वरगंज कस्बे में एक दशक पूर्व बाल विकास परियोजना कार्यालय बनाया गया था। जिसमें पोषाहार का गोदाम है। मरम्मत न होने से भवन जर्जर हो गया है। भवन के पीछे की दीवारें फट गई हैं। बारिश होने पर पानी कमरे में भर जाता है। दो दिनों से हो रही मूसलाधार बारिश से गोदाम में पानी भर गया है, जिससे पोषाहार की बोरियां भीग रही हैं। इस जर्जर बिल्डिंग में बैठकर कर्मचारियों की ओर से बाल विकास परियोजना से संबंधित विभागीय कार्य निपटाया जाता है। कर्मियों को बिल्डिंग के कभी भी धराशाई होने का डर सता रहा है। भवन के पीछे तालाब है। कर्मचारी जुगाड़ से गोदाम में भरे पानी को निकाल रहे हैं। 
गोदाम की खिड़कियां टूट गई हैं, जिसमें दफ्ती व लकड़ी का टेक लगा दिया गया है। दरवाजे भी नहीं हैं। कार्यालय की सुरक्षा न होने के कारण रात में चोर पोषाहार की बोरी उठा ले जाते हैं। जुलाई में पोषाहार की कई बोरियां चोरी हो गई थीं। जिस पर कार्यालय के कर्मचारियों ने विशेश्वरगंज थाने में अज्ञात के विरुद्ध रिपोर्ट भी दर्ज कराई है।
 इस बारे में बाल विकास परियोजना अधिकारी दीपा गुप्ता का कहना है कि भवन की दीवार फटने व जर्जर होने की सूचना अधिकारियों को दी जा चुकी है। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Nutrition stored in warehouse with rain water