DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सहकारी समितियों पर नहीं मिल रही खाद

दीपावली के बाद किसानों ने गेहूं की बुआई करने की तैयारी शुरू कर दी है, लेकिन सहकारी समितियों के सचिवों की हड़ताल के कारण समितियों पर खाद की विक्री ठप हो गई है। जिससे किसानों को गेहूं बुआई करने के लिए उर्वरक का संकट पैदा हो गया है। 
सुलतानपुर जिले में किसानों को समय पर खाद उपलब्ध कराने के लिए 114 सहकारी समितियां संचालित हैं। विभन्नि मांगों को लेकर सहकारी समितियों के अधिकारी व कर्मचारी प्रदेश भर में हड़ताल पर चले गए हैं। जिससे समितियों पर उर्वरक की विक्री कई दिनों से ठप है। समितियों पर खुले धान क्रय केन्द्र में भी ताला लटक रहा है। जिससे किसानों को खाद की तलाश में भटकना पड़ रहा है। प्राइवेट दुकानों पर किसानों को खाद लेना मजबूरी हो गई है जबकि किसानों को इफकों की खाद पर अधिक भरोसा है। धान की बिक्री भी किसान नहीं कर पा रहे हैं। 
एआरकोआपरेटिब एपी सिंह ने बताया कि मामला शासन स्तर तक पहुंच चुका है। सहकारिता मंत्री की ओर से किसानों की समस्या को देखते हुए बातचीत चल रही है। जल्द ही समस्या दूर हो जाएगी।  

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:not getting fertilizer on cooperative societies