DA Image
23 जनवरी, 2020|1:48|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

इलाहाबाद के मेडिकल कॉलेज में रैगिंग पर एनएचआरसी ने दिया नोटिस

राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग (एनएचआरसी) ने मोतीलाल नेहरू मेडिकल कॉलेज इलाहाबाद में रैगिंग के नाम पर 100 से ज्यादा छात्रों के साथ अमानवीय व्यवहार की घटना का संज्ञान लिया है। आयोग ने कॉलेज के प्राचार्य के अलावा केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्रालय व उत्तर प्रदेश सरकार को नोटिस जारी किया है।

आयोग ने मीडिया रिपोर्ट्स का स्वत: संज्ञान लेते हुए यह नोटिस जारी किया है। आयोग ने कॉलेज के प्राचार्य एवं प्रदेश के मुख्य सचिव से चार हफ्ते में जवाब मांगा है। इसमें रैगिंग के लिए दोषी छात्रों एवं लापरवाही के लिए जिम्मेदार कॉलेज के संबंधित अधिकारियों के खिलाफ की गई कार्रवाई का ब्योरा भी देना है। इतना ही नहीं आयोग ने केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्रालय से भी चार हफ्ते में यह बताते को कहा है कि रैगिंग रोकने के लिए बनाई गई राघवन कमेटी की रिपोर्ट लागू करने के सुप्रीम कोर्ट के आदेश का प्रभावी अनुपालन कराने के लिए क्या कदम उठाए गए हैं? आयोग ने राघवन कमेटी की रिपोर्ट के आधार पर देश के सभी शैक्षिक परिसरों में रैगिंग पर प्रतिबंध लगाने के बावजूद ऐसी घटनाएं होने पर कड़ी नाराजगी भी जताई है।

आयोग ने कहा है कि मोतीलाल नेहरू मेडिकल कॉलेज इलाहाबाद में एमबीबीएस प्रथम वर्ष के 150 छात्रों को रैगिंग के नाम पर प्रताड़ित किया गया, जिसमें 40 छात्राएं भी थीं। रैगिंग का विरोध करने वाले छात्रों की पिटाई की जा रही है और उनका भविष्य बर्बाद करने की धमकी दी जा रही है। इसमें से करीब 100 छात्रों को धमकाकर उनका सिर मुड़वा दिया गया है। पीड़ित छात्रों ने अपना नाम न छापने की शर्त पर पत्रकारों को बताया था कि कॉलेज के एंटी रैगिंग सेल से उन्हें कोई मदद नहीं मिल रही है और वे दहशत में रहने को विवश हैं।