DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

छात्रों को किया जागरूक

लखनऊ। निज संवाददाता

महिला महाविद्यालय में रविवार को पर्यावरण जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इनर व्हील क्लब की ओर से शिक्षण संस्थान के प्रांगण में छात्राओं को पर्यावरण से जुड़ी जानकारियां दी गई। जिसमें छात्राओं संग टीचर्स ने उत्साहपूर्वक हिस्सा लिया। बोनसाई विशेषज्ञ शाश्वत पाठक ने छात्राओं को ऑगेनिक वेस्ट से जैविक खाद बनाने की प्रक्रिया को साझा किया।

उन्होंने बताया कि पौधों की पत्तियों, टहनियों, डंठल, भूसा, पैरा कुट्टी, घर से प्राप्त सब्जियों के टुकड़े, जानवरों के मल-मूत्र, बिछावन और वनस्पति कचरों का संग्रह कर भी खाद निर्माण किया जा सकता है। इन चीजों को तब तक गड्ढों में डालना चाहिए जब तक गड्ढों के आकार के अनुसार पूर्ति न हो जाए। गड्ढे भरने के पूर्व इन पदार्थों में प्रति क्विंटल कचरे की दर से एक किलोग्राम रॉक फास्फेट का प्रयोग करना चाहिए, जो कि सस्ता और आसानी से मिल जाता है। गाय के गोबर से भी उत्तम खाद का निर्माण किया जाता है। कार्यक्रम में संस्था की अध्यक्ष मोनिका अग्रवाल,रश्मि खंडेलवाल, सुशीला अग्रवाल, अनुराधा अग्रवाल कॉलेज की प्रिंसिपल निशा गुप्ता संग टीचर्स और छात्राएं मौजूद रही।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:news edu