DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मेरो कान्हा जो आयो पलट के...

लखनऊ। निज संवाददाता

मेरो कान्हा जो आयो पलट के... पर शास्त्रीय नृत्य कथक की पेशकश शुक्रवार को कैसरबाग के बली प्रेक्षागृह में की गई। राष्ट्रीय कथक संस्थान की ओर से आयोजित कथक संध्या में छात्र-छात्राओं ने उपासना श्रीवास्तव के निर्देशन में रंगो से सराबोर 'होरी' नृत्य प्रस्तुति को पेश कर सभी का दिल जीत लिया।

इसके बाद राष्ट्रीय कथक संस्थान की सचिव सरिता श्रीवास्तव की परिकल्पना 'कृष्णप्रिया' नृत्यनाटिका प्रस्तुति में बनारस के विशाल कृष्णा और दिल्ली की रागिनी महाराज ने मन मोह लेने वाली प्रस्तुति पेश की। मंच पर राधा-कृष्ण की अनूठी प्रेमलीला को मंच पर कथक पारंपरिक बंदिशों में पिरोकर प्रस्तुत किया। नृत्य में अपने भावों के रंगो को उकेर राधा-कृष्ण के मिलन, प्रेम,दोनों का रूठना मनाना प्रसंगों को तोड़े-टुकड़े, लड़ी के साथ पेश किया, जिसको देख दर्शक प्रस्तुति को इकटक निहारते रह गए। इस नृत्य नाटिका की नृत्य संरचना ममता महाराज और संगीत पर संगत जय किशन महाराज ने दी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:news