DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सेंट्रल हॉस्पिटल में मरीज की मौत के मामले की जांच के आदेश

-एक सप्ताह में पूरी करनी होगी जांच

-मरीज के इलाज में लापरवाही पर होगी कड़ी कार्रवाई

लखनऊ। वरिष्ठ संवाददाता

मड़ियांव के ताड़ीखाना स्थित सेंट्रल नर्सिंग होम में महिला मरीज की मौत के मामले को स्वास्थ्य विभाग ने गंभीरता से लिया है। सीएमओ ने मामले की जांच के आदेश दिए हैं। इसके लिए तीन सदस्यी जांच कमेटी गठित की है। सप्ताह भर में अधिकारियों को जांच पूरी करने का आदेश दिया है।

यह था मामला

मड़ियांव के सरैंया टोला निवासी गंगाराम की पत्नी मीना देवी (40) को सांस फूलने और सीने में दर्द की समस्या पर गुरुवार सुबह साढ़े 10 बजे सेंट्रल नर्सिंग होम में भर्ती कराया गया था। शुक्रवार को डॉक्टर की सलाह पर मरीज को खून चढ़ाया जा रहा था। अस्पताल संचालक डॉ. परवेज आलम ने टेढ़ी पुलिया स्थित निजी ब्लड बैंक से दो यूनिट खून मंगाया था। परिवारीजनों के मुताबिक खून चढ़ाने से पहले मीना को इंजेक्शन लगाए गए थे। खून चढ़ते ही मरीज की सांस उखड़ने लगी थी। मरीज को तुरंत ही लॉरी कॉर्डियोलॉजी रेफर कर दिया था। रास्ते में ही मीना की मौत हो गई। पति गंगाराम मरीज को लेकर दोबारा सेंट्रल नर्सिंग होम पहुंचे। हॉस्पिटल में हंगामा मच गया। तोड़-फोड़ भी हुई थी।

लापरवाही पर होगी कठोर कार्रवाई

सीएमओ डॉ. नरेंद्र अग्रवाल ने बताया कि मरीज के इलाज में लापरवाही बरतने वालों पर कठोर कार्रवाई की जाएगी। तीन सदस्यी जांच कमेटी पीड़ित परिवारीजनों का पक्ष सुनेगी। सेंट्रल नर्सिंग होम से इलाज संबंधी जानकारी व दस्तावेज तलब किए जाएंगे। उधर, पीड़ित परिवारीजनों ने मुख्यमंत्री और स्वास्थ्य मंत्री से शिकायत की बात कही है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:news