DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

एनबीआरआई ने ग्रामीणों में भ्रष्टाचार के विरुद्ध अलख जगाई

लखनऊ। निज संवाददाता एनबीआरआई की ओर से सोमवार को सतर्कता जागरूकता सप्ताह की शुरूआत की गई। जिसके तहत संस्थान के वैज्ञानिकों व सतर्कता विशेषज्ञ की टीम को गांव-गांव भेजना शुरु किया गया। औरावां गाँव कानपुर रोड पर ग्रामीणजनों को संबोधित करते हुए वैज्ञानिक डा. एसके ओझा ने लोगों को खुद से जागरुक होने का आह्वान किया। कार्यक्रम का संचालन डा. मृदुल शुक्ला ने किया। सतर्कता विशेषज्ञ देवाशीष ओबेराल ने कहा कि जब तक हम अपने अधिकारों के प्रति जागरुक नहीं होंगे तब तक भ्रष्टाचार नहीं मिटेगा। ग्राम प्रधान विनोद शुक्ल ने कहा कि यह हमारे लिए गर्व का विषय है कि एनबीआरआई के अधिकारियों के नेतृत्व में ‘भ्रष्टाचार मिटाओ नया भारत बनाओ अभियान जुड़ने का मौका मिल रहा है। इस अवसर पर अतिथियों को शॉल, तुलसी का पौधा व मोमेंटो देकर सम्मानित किया गया। अभियान में सैकड़ों की संख्या में ग्रामीण उपस्थित रहे। संयोजक डॉ मृदुल शुक्ल ने बताया की सीएसआईआर-एनबीआरआई गांवों में भ्रष्टाचार के विरुद्ध सतर्कता जागरुकता अभियान चला रही है जिसके तहत 30 अक्टूबर को कल्ली पश्चिम, 1 दिसंबर को बीकेटी के परसैया गांव में संस्थान के निदेशक प्रो. सरोज कांत बारीक, प्रशासनिक अधिकारी मुकुंद सहाय , वैज्ञानिक एसके ओझा व्याख्यान देंगे। सतर्कता जागरुकता सप्ताह 29 से 3 नवंबर लखनऊ के आसपास गांवों में भ्रष्टाचार के विरुद्ध जागरुकता अभियान चलाएगी। जिसको भ्रष्टाचार मिटाओ-नया भारत बनाओ के स्लोगन के तहत गांव वालों को सतर्कता के नियम, कानून के प्रयोग के बारे में प्रशिक्षण दिया जाएगा। इस कार्य के लिए संस्थान वैज्ञानिकों को गांव-गांव जाकर लोगों को सतर्कता जागरुकता हेतु निर्देश दे चुकी है। सीएसआईआर नई दिल्ली के सतर्कता विभाग मुख्यालय के निर्देश पर गांवों में संगोष्ठी, ग्राम चौपाल प्रतियोगिता, कार्टून, श्लोगन, पेंटिंग, रंगोली, पोस्टर सतर्कता जागरुकता कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:nbri