DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पुतला गिराया...फिर धक्का दिया...सात दिन बाद आयेगा नतीजा

हर उस जगह को देखा गया जहां से होते हुए विश्वजीत मां के पास पहुंचा था सात दिन में तैयार होगी जांच रिपोर्ट लखनऊ। निज संवाददाता गोमतीनगर में मिडलैंड अस्पताल के मैनेजर विश्वजीत सिंह पुंडीर की मौत के मामले में पुलिस ने रविवार शाम को मौके पर घटना का नाट्य रूपान्तरण किया। अब तक की पड़ताल में पुलिस भले ही इसे हादसा मानती रही हो लेकिन नाटय रूपान्तरण में हत्या और हादसा दोनों बिन्दुओं का ध्यान रखा गया। यही वजह रही विश्वजीत का पुतला बना कर रेलिंग से पहले उसे नीचे गिराया गया...फिर दोबारा उसे रेलिंग से नीचे की ओर धक्का दिया गया। शाम करीब पांच बजे विधि विज्ञान प्रयोगशाला के फोरेंसिक विशेषज्ञ जीएस खान पांच सदस्यीय टीम के साथ विश्वासखंड स्थित विश्वजीत के घर पहुंचे। उनके साथ सीओ गोमती नगर अवनीश्वर श्रीवास्तव, इंस्पेक्टर राम सूरत सोनकर भी थे। टीम ने पहले विश्वजीत की मां संदेश सिंह पुण्डीर से फिर से पूरी बात पूछी कि किस तरह से विश्वजीत उनके पास आया। वह उनके कमरे से कितनी दूर खड़ा था? इसके बाद पुलिस के साथ विश्वजीत के कमरे से लेकर मां के कमरे तक हर उस जगह को देखा जहां से होते हुए विश्वजीत खून से लथपथ गया था। बालकनी से गिराया गया पुतला फोरेंसिक विशेषज्ञों ने बालकनी से रेलिंग के बीच की दूरी नापी, फिर नुकीले एंगलों के बीच की दूरी देखी। इसके बाद बालकनी से नीले रंग का पुतला गिराया गया। यह पुतला डाली से टकराते हुए एंगल पर गिरा। फिर पुतले को ऊपर से धक्का देकर नीचे गिराया गया। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में दिखी चोटों का मिलान किया विशेषज्ञों ने पुलिस से पोस्टमार्टम रिपोर्ट भी ली। इसमें जिन चोटों का जिक्र था, उनका मिलान कराया गया कि ये चोटें नीचे गिरते समय कहां-कहां लग सकती हैं। पेट पर जो दो घाव 10 सेमी. की दूरी पर थे, उनका एंगल के बीच की लम्बाई से मिलान फिर कराया गया। ये दूरी भी बराबर ही निकली। पड़ोसी भी सच जानने को दिखे उत्सुक नाटय रूपान्तरण के दौरान पुलिस के साथ विश्वजीत की मां व भाई इन्द्रजीत रहे। पुलिस से ये लोग बात करते रहे लेकिन बाहर नहीं निकले। विश्वजीत के मित्र व उनके अस्पताल के दो सहयोगी भी वहां आये थे। कुछ लोगों ने इसे हत्या कहा तो साथ के कर्मचारियों ने कहा कि यह हादसा ही है। विश्वजीत की किसी से दुश्मनी ही नहीं थी। वहीं पड़ोसियों का भी जमावाड़ा रहा। ये लोग भी आपस में हत्या या हादसा को लेकर चर्चा करते रहे। इनमें भी उत्सुकता थी कि आखिर सच क्या है?

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:midland