DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तर प्रदेश  ›  लखनऊ  ›  रामाधीन मार्केट बचाने के लिए व्यापारियों ने मंत्री से लगाई गुहार
लखनऊ

रामाधीन मार्केट बचाने के लिए व्यापारियों ने मंत्री से लगाई गुहार

हिन्दुस्तान टीम,लखनऊPublished By: Newswrap
Sun, 18 Oct 2020 06:41 PM
रामाधीन मार्केट बचाने के लिए व्यापारियों ने मंत्री से लगाई गुहार

व्यापारियों ने कहा 20 वर्षों से वह यहां कर रहे हैं व्यवसाय, तोड़ने से उनके साथ सैकड़ों और लोगों की छिन जाएगी रोजी रोटीलखनऊ। प्रमुख संवाददातारामाधीन सिंह मार्केट तोड़े जाने के एलडीए के निर्णय का व्यापारियों ने विरोध शुरू कर दिया है। यहां के करीब 55 व्यापारियों ने कानून मंत्री बृजेश पाठक, नगर विकास मंत्री आशुतोष टंडन तथा विधायक नीरज वोरा से मुलाकात की तथा उनसे दुकानें बचाने की गुहार लगाई है। उनका कहना है कि अगर दुकानें तोड़ी गई तो उनकी रोजी-रोटी चली जाएगी। इसके साथ यहां काम करने वाले सैकड़ों लोग भी बेरोजगार हो जाएंगे।रामाधीन सिंह मार्केट आईटी चौराहे के पास बनी है। दुकानदारों का कहना है कि उन्होंने मोटी रकम देकर रामाधीन सिंह कॉलेज की सोसाइटी से किराए पर दुकानें ली हैं। 20 वर्ष पहले दुकानें ली थी। तब से लगातार अपना व्यवसाय कर रहे हैं। नियमित किराया भी देते हैं। करीब 500 परिवारों का इनसे पेट पलता है। एलडीए अब इसे नजूल की जमीन बताकर तोड़ने जा रहा है। एलडीए की विहित प्राधिकारी ऋतु सुहास ने इसे गिराने का आदेश किया है। दुकानदारों ने कहा एलडीए की जो भी देनदारी बनती है वह उसे देने को तैयार हैं। लेकिन दुकानें न तोड़ी जाएं। दुकानदारों ने कमिश्नर के यहां भी अपील की है। कमिश्नर ने एलडीए से यहां की दुकानों की पैमाइश करा कर और अवैध हिस्से की पूरी रिपोर्ट भेजने को कहा है। रिपोर्ट आने पर कमिश्नर निर्णय लेंगे। एलडीए ने सोसाइटी को यह जमीन स्कूल के लिए दी थी लेकिन संचालकों ने आगे की तरफ दुकानें बना लीं।

संबंधित खबरें