class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बिजली दर मे बढ़ोतरी पर भड़के सपाई, राज्यपाल को ज्ञापन सौंपा

, protest, demonstrate, lead

प्रदेश सरकार की गरीब विरोधी नीतियों व बिजली के दामों पर बेतहाशा वृद्धि के खिलाफ गुरुवार को सपाई सड़क पर उतरे। बिजली दरों में हुई बढ़ोतरी की मांग को वापस लेने की मांग करते हुए कलेक्ट्रेट सभागार में धरना प्रदर्शन किया। इस दौरान राज्यपाल को सम्बोधित ज्ञापन एडीएम ओपी सिंह को सौंपा गया।
कलेक्ट्रेट सभागार में धरना प्रदर्शन करते हुए प्रदेश सरकार पर सपाइयों ने जमकर भड़ास निकाली। धरने का नेतृत्व जिलाध्यक्ष जितेन्द्र यादव ने किया। धरने को सम्बोधित करते हुए श्री यादव ने कहा कि भाजपा की प्रदेश सरकार ने लोगों से छल किया है। जनकल्याण का दावा करने वाली सरकार लोगों को लूटने पर तुली हुई है। सरकार को लोगों की परेशानियों से कोई सरोकार नहीं है। 
उन्होंने कहा कि बढ़े हुए बिजली के दामों का भुगतान कर पाना किसानों व ग्रामीण इलाकों के निवासियों के लिए सम्भव नहीं है। इस मौके पर पूर्व विधायक हाजी रमजान ने कहा कि जब प्रदेश में हमारी सरकार थी तब लोगों को चौबीसों घंटे बिजली मिलती थी। बिजली उत्पादन भी प्रदेश में बेहतर था। जब से भाजपा की सरकार आई है, चौबीस घंटे बिजली सप्लाई सपना बन कर रह गई है। उस पर सरकार द्वारा की गई 63 प्रतिशत बढ़ोतरी से लोगों की कमर टूट चुकी है। 
जिला पंचायत अध्यक्ष साक्षी कैराती ने कहा कि प्रदेश सरकार जब तक बिजली की बढ़ी हुई दामों को वापस नहीं ले लेती है, हमारी पार्टी विरोध करती रहेगी। वहीं युवजन सभा जिलाध्यक्ष डा. इकबाल मंसूरी ने कहा कि प्रदेश सरकार की नीतियां गरीबों व पिछड़ों की विरोधी है। बिजली की दामों में बढोतरी को सरकार वापस नहीं लेती है। तब तक हम विरोध प्रदर्शन करते रहेंगे।  इस दौरान सतेन्द्र प्रताप सिंह, छेदीराम यादव, शमीम अहमद, राम अधार सोनकर, अजय यादव, रामनरेश यादव, सरोजनी शर्मा, काशीराम यादव समेत अन्य लोग मौजूद रहे।


 
 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:memorandum to Governor
मायावती ने मुनकाद अली के बेटों को बसपा से निकालावरिष्ठ उपाध्यक्ष व कोषाध्यक्ष निर्विरोध निर्वाचित