Maharishi Valmiki s Pride of the entire nation society and the world as a whole - महर्षि बाल्मीकि संपूर्ण राष्ट्र, समाज और समूचे विश्व के गौरव DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

महर्षि बाल्मीकि संपूर्ण राष्ट्र, समाज और समूचे विश्व के गौरव

default image

लखनऊ। प्रमुख संवाददाता

राज्य सफाई कर्मचारी आयोग के सदस्य व अखिल भारतीय वाल्मीकि महासभा के राष्ट्रीय महासचिव श्याम लाल वाल्मीकि ने कहा कि कुछ साहित्यकार महर्षि वाल्मीकि का अपमान करने में जुटे हैं। फिल्मों में अपमानजक शब्दों का प्रयोग किया जा रहा है। जबकि सुप्रीम कोर्ट ने महर्षि वाल्मीकि के खिलाफ अभद्र शब्दों का प्रयोग बंद करने का आदेश दिया है। उन्होंने मुख्यमंत्री से महर्षि वाल्मीकि का अपमान करने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने की मांग की है।

वह महर्षि वाल्मीकि की जयंती की पूर्व संध्या पर कैंट स्थित वाल्मीकि चौक पर आयोजित सामाजिक न्याय गोष्ठी को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि कुछ अज्ञानी लोग महर्षि के कलम वाले हाथों में तलवार पकड़ाकर गलत छवि प्रस्तुत करने का प्रयास कर रहे हैं। गूगल में भी महर्षि बाल्मीकि के जीवन चरित्र को बहुत ही अपमानित तरीके से पेश किया गया है। यही नहीं पूर्व में सरकारी पाठ्य पुस्तक ‘हमारे पूर्वज व ‘भाषा किरण में अपमानजनक चित्र दिखाकर बच्चों को दिमाग में गलत छवि डाली जा रही थी। हालांकि अब उसे हटा दिया गया है। ऐसे कृत्य से पूरी दुनिया में वाल्मीकि समाज की भावनाएं आहत हो रही हैं। उन्होंने मुख्यमंत्री से मांग की है कि ऐसे लोगों को चिह्नित कर उनके खिलाफ कठोर कानूनी कार्रवाई की जाए।

गोष्ठी में पूर्व विधायक सुरेश चंद्र तिवारी, संयोजक प्रताप सिंह पापे, पूर्व उपाध्यक्ष छावनी परिषद प्रमोद शर्मा, आशीष कुमार कंचन, राजू रंगीला, पार्षद डॉ. रंजीता शर्मा, सुधीर राजपाल, हरिश्चंद्र धानुक, संतोष टंडन, सुरेश तहसीलदार, सत्य प्रकाश गुलहरे ने भी अपने विचार रखे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Maharishi Valmiki s Pride of the entire nation society and the world as a whole