DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

लविवि योजनाएं

13 साल में लविवि की सूरत बदलेगा मास्टर प्लान -पहले साल में इंजीनियरिंग की पढ़ाई, एडवांस लाइब्रेरी -7 साल में मेडिकल व कृषि फैकल्टी -13 साल में स्पोर्ट्स सेंटर व अन्य उच्च स्तरीय सुविधाओं से लैस होगा एलयू -उच्च शिक्षा विभाग को भेजा गया है 154 करोड़ की योजनाओं का प्रस्ताव लखनऊ। वरिष्ठ संवाददाता 2019 में लखनऊ विश्वविद्यालय का नैक मूल्यांकन होना है, 2021 में विवि 100 साल का हो रहा है...इन दोनों महत्वूपर्ण चीजों को ध्यान में रखते हुए एक मास्टर प्लान तैयार किया गया है जो अगले 13 वर्षों में लखनऊ विवि की सूरत बदलेगा। इस सत्र से शुरू हो रही इंजीनियरिंग की पढ़ाई इसी मास्टर प्लान का एक हिस्सा है और अगले सात साल में यहां मेडिकल व कृषि संकाय शुरू करने की योजना भी प्लान में शामिल है। लखनऊ विवि की ओर से उच्च शिक्षा विभाग को एक प्रस्ताव भेजा गया है जिसमें अगले 13 साल का मास्टर प्लान प्रस्तावित है और इस पर संभावित खर्च लगभग 154 करोड़ रुपये है। इस प्लान को चार चरणों में बांटा गया है और इसमें अगले एक साल, तीन साल, सात साल और 13 साल की योजनाएं शामिल हैं। हालांकि अभी चीजें प्रस्ताव स्तर पर हैं लेकिन अगर इनपर अमल हो पाता है तो लखनऊ विश्वविद्यालय देश के टॉप शिक्षण संस्थानों में जरूर शामिल हो जाएगा। कुछ इस तरह बदलेगा लविवि- 1 वर्ष की योजनाएं एडवांस लाइब्रेरी सुविधाएं, सेंट्रल लाइब्रेरी, विभागीय लाइब्रेरी, वाई-फाई- 2 करोड़ 40 लाख ओएनजीसी सेंटर में सुविधाओं के लिए- 6 करोड़ स्मार्ट क्लास, प्रयोगशालाएं, पीने का पानी, अन्य बुनियादी सुविधाएं- 15 करोड़ (लगभग) स्पोर्ट्स, कैंटीन, बायोटॉयलेट आदि- 7 करोड़ (लगभग) शिक्षकों के लिए जरूरी सुविधाएं- 5 करोड़ (लगभग) 3 साल की योजनाएं शिक्षकों के 50 पद पब्लिकेशन सेंटर, मॉडर्न इन्फॉर्मेशन सेंटर, नया प्रशासनिक भवन, गेस्ट हाउस, स्विमिंग पूल, शिक्षक आवास आदि- 30 करोड़ (लगभग) 7 साल की योजनाएं कृषि संकाय की स्थापना- 20 करोड़ मेडिकल संकाय की स्थापना- 20 करोड़ स्किल डेवलपमेंट एंड ओरिएंटेशन सेंटर- 2 करोड़ 13 साल की योजनाएं स्पोर्ट्स ग्राउंड व कन्वेंशन सेंटर- 20 करोड़ ग्रीन एनर्जी कैम्पस- 2 करोड़ रेन वॉटर हार्वेस्टिंग कैम्पस- 2 करोड़ रीसाइक्लिंग सिस्टम- 25 लाख बॉक्स केन्द्रीय विश्वविद्यालय बनना भी संभव इलाहाबाद विवि और बनारस हिन्दू विवि की तर्ज पर लखनऊ विवि को भी केन्द्रीय विवि का दर्जा दिलवाने की कोशिशें हो रही हैं। डिप्टी सीएम और उच्च शिक्षा मंत्री डॉ. दिनेश शर्मा विवि में कह भी चुके हैं कि सरकार की ओर से केन्द्रीय मानव संसाधन विकास मंत्रालय को इससे सम्बंधित एक प्रस्ताव जल्द भेजा जाएगा। यहां गौर करने लायक बात यह भी है कि 13 साल का जो मास्टर प्लान तैयार किया गया है, वह केन्द्रीय विवि का दर्जा मिलने के बाद ही मूर्त रूप लेता दिखेगा। बॉक्स मगर इन योजनाओं का क्या एक तरफ विवि इंजीनियरिंग और मेडिकल की पढ़ाई, मास्टर प्लान जैसे बड़े-बड़े प्रस्ताव तैयार कर रहा है लेकिन दूसरी ओर तमाम छोटी-छोटी योजनाएं अभी भी अमली जामा पहनाए जाने का इंतजार कर रही हैं। पिछले दो साल से बजट और पूरी कार्ययोजना होने के बाद भी कैम्पस वाई-फाई नहीं हो पाया। कई विभाग अभी भी कागज-कलम के सहारे हैं, इन्हें कम्प्यूटर नहीं मिले। हॉस्टलों और विवि परिसर में सीसीटीवी कैमरा आजतक नहीं लगे, जहां लगे हैं वहां काम नहीं कर रहे। सुरक्षा जैसी सबसे बुनियादी जरूरत कैम्पस व हॉस्टलों में अभी तक सुनिश्चित नहीं हो पाई, ऐसे में मास्टर प्लान जैसी बड़ी योजना कहां तक पहुंचेगी, यह कहना मुश्किल है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:lucknow university master plan