DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

लोकसभा चुनाव 2019 : सिर्फ 20 प्रतिशत वोट पाकर भी बन गए सांसद

Lok Sabha Elections 2019: ‘पेपर स्प्रे रखती हो...लड़की हो...तुम्हें भी अपनी सेफ्टी के लिए कुछ करना चाहिए। लड़की जवाब देती है...हम काला टीका लगाते हैं और वह अपना हाथ उठाकर तर्जनी उंगली पर लगी स्याही दिखा देती है।’ 

मतदान को प्रोत्साहित करने वाला यह विज्ञापन सोशल मीडिया पर सराहा जा रहा है। मतदान बढ़ाने के लिए चुनाव आयोग ने भले ही 85 फीसदी मतदान का लक्ष्य रखा हो लेकिन यूपी से पिछले लोकसभा चुनाव में ऐसे माननीय भी चुने गए हैं जिन्होंने 20-25 फीसदी से कम वोट हासिल किए हैं।

वर्ष 2014 का लोकसभा चुनाव इस मायने में खास रहा कि मतदान प्रतिशत बढ़ कर 66.38 फीसदी हो गया। इससे पहले सर्वाधिक मतदान 1984 में दर्ज किया गया था, जब 64.01 प्रतिशत मतदाताओं ने मताधिकार का इस्तेमाल किया था। वर्ष 2009 के आम चुनाव में भी 58.19 फीसदी वोट ही पड़े थे।  हर बार की तरह इस बार भी मतदान बढ़ाने पर जोर है, लिहाजा चुनाव आयोग की कोशिशें शुरू हो चुकी हैं। यूपी की 80 में से 75 सीट भाजपा के खाते में गई। भाजपा प्रचंड बहुमत हासिल करते हुए केंद्र की सत्ता में पहुंची। हालांकि यूपी में मतदान प्रतिशत राष्ट्रीय औसत से काफी कम रहा। यूपी में 2014 लोकसभा चुनाव में 58 फीसदी वोट पड़े थे और इस बार इसे बढ़ाकर 85 फीसदी करने का लक्ष्य है। 

आधा दर्जन जीते 20 फीसदी से कम वोटों से  :यूपी में ज्यादातर ऐसे माननीय रहे जिनके क्षेत्र में मतदान कम हुआ। लिहाजा, वे भी 20 से 35 फीसदी वोट पाकर लोकसभा का हिस्सा बन गये। डुमरियागंज से जीते सांसद जगदम्बिका पाल मात्र 16 % वोट पाकर लोकसभा में पहुंचे। इस संसदीय क्षेत्र में 17,61,415 वोटर हैं लेकिन केवल 9,35,027 वोटरों ने ही अपने मताधिकार का इस्तेमाल किया और जगदम्बिका  पाल को इसमें से 2,98,845 वोट ही मिले। प्रदेश के आधा दर्जन से ज्यादा सांसद ऐसे रहे कि जिन्हें 20 फीसदी से भी कम वोट मिले। 

यूपी की 14 सीटों पर सपा-बसपा गठबंधन बड़ा दांव खेलने की तैयारी में

पश्चिमी यूपी में बढ़ा था सबसे ज्यादा मतदान
यूपी में मत प्रतिशत बढ़ाने में पश्चिमी यूपी का सबसे ज्यादा योगदान रहा। पश्चिमी यूपी के चलते मत प्रतशित बढ़ कर 58 फीसदी हो गया। सबसे ज्यादा मतदान सहारनपुर में 74 फीसदी रहा तो सबसे कम मतदान बांसगांव और अम्बेडकरनगर में 50 फीसदी से भी कम मतदान रहा। ज्यादातर सीटों पर 50-54 फीसदी मतदान ही हुआ लेकिन शायद ही ऐसा कोई सांसद रहा हो जिसे अपने क्षेत्र के कुल मतदाताओं की संख्या के मुकाबले 50 फीसदी से ज्यादा वोट मिला हो। 
  
इन्हें मिले 20 % से भी कम वोट

डुमरियागंज        जगदम्बिका पाल     16.97 %
गाजीपुर                मनोज सिन्हा     17.04 %
संत कबीर नगर       शरद त्रिपाठी     18.32 %
इलाहाबाद           श्यामा चरण गुप्ता    18.83 %
कौशाम्बी              विनोद सोनकर      19.08  %
श्रावस्ती               दद्दन मिश्र             19.35  %
आजमगढ़           मुलायम सिंह यादव   19.98  %
लालगंज              नीलम सोनकर         19.50  %
जौनपुर                कृष्ण प्रताप              19.86  % 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Lok Sabha Elections 2019: MPs only got 20 percent votes