DA Image
3 दिसंबर, 2020|1:02|IST

अगली स्टोरी

लोहिया: बीमार कर्मचारियों की लगाई कोविड में ड्यूटी

default image

केस एकलोहिया के सीटीवीएस विभाग में तैनात पुरुष स्टाफ नर्स को ऑटो इम्यून डीसीज है। मेडिकल बोर्ड ने बीमारी की पुष्टि की। 17 सितंबर को विशेषज्ञों की टीम ने कोविड हॉस्पिटल में तीन माह तक ड्यूटी न लगाने की छूट दी। इसके बावजूद ड्यूटी लगा दी गई।केस दोन्यूरो सर्जरी विभाग की ओटी में तैनात स्टाफ नर्स अस्थमा से पीड़ित है। मेडिकल बोर्ड ने 24 सितंबर को जांच में नर्स में बीमारी की पुष्टि की। फिर भी अफसरों ने बीमार नर्स की कोविड हॉस्पिटल में ड्यूटी लगा दी।लखनऊ। वरिष्ठ संवाददातालोहिया संस्थान में फिर ड्यूटी में मनमानी के गंभीर आरोप लगे हैं। इस बार बीमार कर्मचारियों की कोविड हॉस्पिटल में ड्यूटी लगा दी गई। इससे अधिकारी-कर्मचारी आमने-सामने आ गए हैं। आरोप हैं कि अफसर कर्मचारियों की सेहत से खेल रहे हैं।लोहिया संस्थान का कोविड हॉस्पिटल शहीद पथ पर बनाया गया है। इसमें संस्थान के विशेषज्ञ डॉक्टर से लेकर कर्मचारियों तक की बारी-बारी ड्यूटी लगाई जा रही है। नर्सेस संघ के महामंत्री अमित शर्मा का आरोप है कि संस्थान प्रशासन चेहतों की ड्यूटी नहीं लगा रहा है। बीमार कर्मचारियों की ड्यूटी कोरोना हॉस्पिटल में लगा दी गई है। जबकि मेडिकल बोर्ड ने जांच के बाद कर्मचारियों में बीमारी की पुष्टि की। बुधवार को संस्थान के सीएमएस डॉ. राजन भटनागर की तरफ से ड्यूटी रोस्टर जारी किया गया। इसमें आठ कर्मचारी बीमारी हैं। अस्थमा, गर्भवती महिलाएं, ऑटो इम्यून डिसीज से पीड़ितों की ड्यूटी कोविड हॉस्पिटल में लगाई गई है।आन्दोलन की चेतावनीअमित शर्मा का कहना है कि नियमानुसार बीमारी कर्मचारियों की ड्यूटी नहीं लगाई जा सकती है। यह सभी कर्मचारी हॉस्पिटल में लगातार काम कर रहे हैं। यदि ड्यूटी लगाने में भेदभाव किया गया तो आन्दोलन किया जाएगा। वहीं संस्थान के प्रवक्ता डॉ. श्रीकेश सिंह का कहना है कि कर्मचारियों की ड्यूटी कोविड हॉस्पिटल के ग्रीन जोन में लगाई गई है। वहां संक्रमण का खतरा नहीं है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Lohia Duty of sick employees in Kovid