lko - सज रहे भोले बाबा निराले दूल्हे में... DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सज रहे भोले बाबा निराले दूल्हे में...

- शिव विवाह प्रसंग सुन भाव विभोर हुए भक्तगण

- सेक्टर नौ इंदिरानगर में श्री रामकथा का आयोजन

‘राम‘ सिर्फ एक नाम नहीं है। राम मात्र दो अक्षर नहीं हैं। राम हिन्दुस्तान की सांस्कृतिक विरासत है। राम हमारी एकता और अखंडता हैं। राम हमारी आस्था और अस्मिता के सर्वोत्तम प्रतीक हैं। राम सनातन धर्म की पहचान है। यह बात विश्व कल्याण श्री हनुमत सेवा चेरिटेबल ट्रस्ट की ओर से सेक्टर नौ शिवशक्ति अर्द्धनारीश्वर महादेव मन्दिर पार्क निकट सेन्ट्रल एकेडमी स्कूल इन्दिरानगर मे चल रही श्रीराम कथा के तीसरे दिन मंगलवार को कथा व्यास अरविन्द शास्त्री जी महाराज ने कही।

उन्होंने कहा कि राम तो प्रत्येक प्राणी में रमा हुआ है, राम चेतना और सजीवता का प्रमाण है। शिव विवाह प्रसंग सुनाते हुये कहा कि शिव जी की बारात में सबसे आगे देवता, उनके पीछे भगवान विष्णु और ब्रम्हा चल रहे थे। सबसे पीछे भगवान भोलेनाथ गण व भूत, प्रेत नृत्य करते हुए चल रहे थे। जैसे ही बारात हिमानचल नगरी पर पहुंची तभी नगरवासी दूल्हे भोलेनाथ को देखने के लिए उमड़ पड़े। लेकिन उनकी बारात में भूत-प्रेत को देख आगवानी करने आए घराती भागने लगे और स्वागत, सत्कार करना भी भूल गए। भगवान शिव की बारात का चित्रण सुन श्रद्धालु भाव-विभोर हो उठे। कथा क्रम में अरविन्द शास्त्री जी महाराज ने एक भजन ‘सज रहे भोले बाबा निराले दूलहे में सुनाया तो हर कोई झूम उठा। उसके बाद उन्होंने एक और भजन ‘चलो रे सखियां चलो हिमांचल के द्वारे आज सुनाया। कथा के आरंभ में विजय सिंह विद्यार्थी परिवार के साथ व्यासपीठ की पूर्जा अचना की। कथा में अध्यक्ष किशोर धर द्विवेदी, डॉ. डीपी शुक्ला, पूर्व पार्षद मुकेश सिंह चौहान, पार्षद अमिता सिंह, नरेन्द्र मिश्रा मौजूद रहे।

--------------------

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:lko