DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

राष्ट्र को समर्पित था स्व. हेमवती नन्दन बहुगुणा का जीवन

-कैबिनेट मंत्री प्रो रीता बहुगुणा जोशी ने कहा कि स्व. बहुगुणा 'वाद' नहीं 'राष्ट्रवाद' को महत्व देते थे

-आठ राजभवन कालोनी में मनाई गई 30वीं पुण्यतिथि, बड़ी संख्या में श्रद्धासुमन अर्पित करने पहुंचे लोग

वे एक स्नेही पिता थे और उनका पूर्ण जीवन राष्ट्र को समर्पित था। यह बात कैबिनेट मंत्री प्रो रीता बहुगुणा जोशी ने रविवार को अपने पिता, स्वतंत्रता संग्राम सेनानी और प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री स्व. हेमवती नन्दन बहुगुणा की 30वीं पुण्यतिथि पर कही। रविवार को आठ राजभवन कालोनी में उनकी पुण्यतिथि मनाई गई। इस अवसर पर एक श्रद्वांजलि सभा और सर्वधर्म पाठ हुआ। डॉ. विभा सिंह व उनके साथियों ने भजन पेश किए।

प्रो. रीता बहुगुणा जोशी ने कहा कि स्व. बहुगुणा जी कहते थे कि सभी के लिए केवल एक ही वाद होना चाहिए और वह है राष्ट्रवाद। डॉ. अम्मार रिज़वी ने उनके सहज सुभाव व प्रतिदिन सैकड़ो कार्यकर्ताओं से भेंट करने का उल्लेख करते हुए कहा कि उन्होने बहुगुणा मंत्री मण्डल में शिक्षा मंत्री की हैसियत से उनके आदेश पर प्रदेश में छह नये विश्व विद्यालय खोले थे। मंत्री बृजेश पाठक ने कहा कि वे युवाओं को विशेष तरजीह देते थे। अनेक युवा उनके आर्शिवाद से कालान्तर में बड़े नेता बने। हेमवती नन्दन बहुगुणा स्मृति समिति के अध्यक्ष रामकृष्ण द्विवेदी ने उन्हे गांधी के अनुयायी के रूप में याद करते हुए कहा कि उन्होंने अपने आदर्शो से कभी भी समझौता नही किया। मेयर संयुक्ता भाटिया ने उनके पद चिन्हों पर चलने की सलाह दी।

श्रद्धासुमन अर्पित करने वालों की लगी रही भीड़

इस कार्यक्रम का प्रारम्भ सर्वधर्म पाठ से हुआ जिसमें श्रद्वांजली सभा में पंडित उमेश चन्द्र अवस्थी, बौध धर्म गुरू तरुणेश जी, ज़ामा मस्जिद सदर के पेश इमाम मौलाना गुलाम अहमद रज़ा, गुरूद्वारा लालबाग के ज्ञानी धर्मेन्द्र सिंह रागी, पास्टर फ्रेंक बक्श ने पाठ पढ़ाते हुए श्रद्वांजली अर्पित की। इस अवसर पर कैबिनेट मंत्री आशुतोष टण्डन, स्वाती सिंह, सांसद अशोक बाजपेयी, राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद के महामंत्री वीके राय, मनोज राय, विनायक पाण्डेय समेत कई अन्य लोगों ने भी श्रद्वा सुमन अर्पित किए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:lko