DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कुड़ियाघाट पर मूर्तियों का भूमि विसर्जन किया

-जनता से की अपील की मूर्ति बैंक में जमा करें मूर्तियां

श्री शुभ संस्कार समिति ने शनिवार से मूर्तियां और पूजन सामग्री का भूमि विसर्जन अभियान फिर से शुरू कर दिया। समिति के महामंत्री रिद्धि किशोर गौड़ और मंत्री विनय महेश्वरी ने सुबह सैकड़ों मूर्तियों का भूमि विसर्जन कराया। उन्होंने बताया कि रविवार को सुबह सात बजे समिति के एक दर्जन सदस्य चौक में पेड़ों के नीचे रखी मूर्तियां और अन्य स्थानों, विभिन्न मंदिरों से मूर्तियों को एकत्र कर भूमि विसर्जन कराएंगे। समिति के पदाधिकारियों ने लोगों से अपील की है कि मूर्तियों को सुरक्षित मूर्ति बैंक में जमा करें जिससे मां गोमती का जल प्रदूषित होने से बचाया जा सके।

खण्डित मूर्तियां पर्यावरण को पहुंचाती नुकसान

-नदी को प्रदूषित करती हैं

-प्राणवायु को भी दूषित करती है

-इनमें प्रयोग होने वाले सीसा के रंग हानीकारक होते हैं

-यह नदी के ईको-सिस्टम को बिगाड़ती है

-इनको खाकर जलचर मरते हैं

-इनमें प्रयोग होने वाली रासायनिक धातु कभी नष्ट नहीं होती

-प्लास्टिक की मालाएँ और गोटे भी प्रदूषण के लिए खतरा बनते हैं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:lko