अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बलरामपुर में दो दिन सड़ता रहा शव, पुलिस को नहीं दी सूचना

- 48 घंटे बाद पुलिस को दी जानकारी, पंचनामा भरकर शव पोस्टमार्टम को भेजा गया

बलरामपुर अस्पताल के डॉक्टरों की संवेदनहीनता का एक नजारा शनिवार को देखने को मिला। संवेदनहीन डॉक्टरों ने पहले तो लावारिस मरीज का सही से इलाज नहीं किया। इलाज के अभाव में मरीज ने लावारिस वार्ड में दम तोड़ दिया। उसके बाद संवेदनहीन डॉक्टरों ने व्यक्ति का शव अस्पताल की मर्च्यूरी में पहुंचवा दिया, लेकिन पुलिस को मौत की जानकारी नहीं दी। इस वजह से दो दिन तक शव मर्च्यूरी में सड़ता रहा। जब बदबू आने लगी तो कर्मचारियों ने अस्पताल के अफसरों को बताया। उसके बाद शनिवार को अस्पताल प्रशासन ने वजीरगंज पुलिस को सूचना दी। फिर पहुंची पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा।

108 एंबुलेंस से आया था लावारिस मरीज

जानकारी के मुताबिक पांच दिन पहले 108 एंबुलेंस से बलरामपुर अस्पताल की इमरजेंसी में लावारिस मरीज को लाकर भर्ती कराया गया था। यहां से व्यक्ति को न्यू बिल्डिंग स्थित लावारिस वार्ड में शिफ्ट कर दिया गया। अस्पताल में चर्चा रही कि लावारिस मरीज का इलाज करने में डॉक्टरों ने कोताही बरती। इस वार्ड में डॉक्टर मरीज को देखने ही नहीं गए। इलाज के अभाव में मरीज ने दम तोड़ दिया।

शव मर्च्यूरी में भिजवाया

लावारिस मरीज की गुरुवार को मौत होने के बाद बलरामपुर अस्पताल के डॉक्टरों ने शव को अस्पताल परिसर में बनी मर्च्यूरी में भिजवा दिया। पर, वजीरगंज पुलिस को मरीज की मौत की जानकारी नहीं दी। यहां पर गुरुवार से शनिवार दोपहर 48 घंटे तक बिना डीपरेफ्रीजरेटर के बाहर ही रख दिया गया। शनिवार को उधर से निकले कुछ कर्मचारियों ने बताया कि शव सड़ गया। काफी बदबू आ रही थी। इस सूचना पर अस्पताल के अधिकारियों ने वजीरगंज पुलिस को सूचना दी, फिर शव पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया।

अस्पताल से शनिवार को लावारिस मरीज की मौत सूचना आई थी। मेमो आने पर पुलिसकर्मी मौके पर पहुंचे और मर्च्यूरी में रखे शव का पंचनामा करके पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया है।

पंकज सिंह, इंस्पेक्टर वजीरगंज

अस्पताल की मर्च्यूरी में लावारिस मरीज का शव रखा गया था, ताकि कोई भी तीमारदार आकर शव की शिनाख्त कर सके। लावारिस शव शिनाख्त के लिए 72 घंटे तक रखने का नियम है। अस्पताल की मर्च्यूरी में दो डीपरेफ्रीजरेटर रखे हैं, जो ठीक काम कर रहे हैं।

डॉ. ऋषि सक्सेना, सीएमएस, बलरामपुर अस्पताल

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:lko