DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सांस्कृतिक कार्यक्रमों के बीच नेपाली छटा से सराबोर हुई शाम

-गोरखा समाज ने धूमधाम से मनाया तीज उत्सव-सांस्कृतिक कार्यक्रमों के बीच नेपाली छटा से सराबोर हुई शामनिज संवाददाता। लखनऊमलई आंख म काजल लाउना-मन पर्छ किन ढेउ न सईला ढाई, तीज को बेला सपना देखे... ऐसे ही पहाड़ी गीतों पर जब बच्चों ने नृत्य प्रस्तुत किया तो पूरा माहौल कजरी तीज उत्सव की महक से महकने लगा। मौका था भारतीय गोरखा सेवा समाज कल्याण समिति की ओर से स्वर्ण जयंती समारोह का। इस अवसर पर बुधवार को रविन्द्रालय में तीज उत्सव का आयोजन किया गया। तीज के अवसर को देखते हुए महिलाओं ने भी धूमधाम से आयोजन में हिस्सा लिया। समिति के मुख्य संरक्षक जगत बहादुर खड़का ने महामंत्री सीबी थापा संग दीप प्रज्जवलित कर कार्यक्रम की शुरूआत की। कार्यक्रम में बतौर विशिष्ट अतिथि महापौर संयुक्ता भाटिया और मुख्य अतिथि सांसद कौशल किशोर मौजूद रहे। समिति के सुखमान मुक्तान, वीबी थापा, दीपिका सेन, एलबीएस थापा संग समिति के अन्य सदस्य मौजूद रहे।-सांस्कृतिक कार्यक्रमों के बीच नेपाली छटा से सराबोर हुई शामजय गोरखा जय हिंद के बोलो संग सांस्कृतिक संध्या का आगाज हुआ जिसमें बाल कलाकारों ने अपनी मनमोहक प्रस्तुतियों से समां बांध दिया। पारंपरिक पहाड़ी गीतों पर जब कदम थिरके तो दर्शक इकटक देखते रह गए। तीज को बेला लडबरि लडबरि, शंकर भोले बम बम, नेपाली गीत डरू, कुटु म कुटु, माया लुकी लुकी पहाड़ी गीतों पर मुस्कान, हर्षिता, तनु, शालू, एंजल, नीतू, ईशा, अंशिका संग अन्य 20 कलाकारों ने मंच पर से पहाड़ी संस्क़ति को पेश किया। जिसको देख दर्शकों ने तालियों से उनका उत्साहवर्धन किया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:lko