DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

रक्तदान करके की जा सकती समाजसेवा

-केजीएमयू के निकाली गई रक्तदाता जागरूकता रैली

-जिलाधिकारी बोले, असली जीवन रक्षक तो रक्तदाता होता है

विश्व रक्तदाता दिवस के अवसर पर किंग जार्ज चिकित्सा विश्वविद्यालय के ट्रांसफ्यूजन मेडिसिन विभाग की ओर से रक्तदाता जागरूकता रैली सुबह सात बजे निकाली गई। मुख्य अतिथि किंग जार्ज चिकित्सा विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. एमएलबी भट्ट रहे।

जिलाधिकारी कौशलराज शर्मा ने रक्तदाता जागरूकता रैली को झण्डा दिखाकर रवाना किया। रैली चिकित्सा विश्वविद्यालय के शताब्दी फेज-दो के प्रांगण से शुरू होकर शहीद स्मारक तक गई। जिलाधिकारी ने कहा कि रक्तदान की जरूरत भी तभी पड़ती है जब लोगो की जान पर बन आती है। रक्त प्राण रक्षक तो होता है किंतु जीवन रक्षक वो व्यक्ति होता है जो रक्त दाता होता है। रक्त दान कर हम सामज की सेवा कर सकते हैं और यह बहुत ही पुण्य का कार्य है। हमे समाज के उन लोगो तक भी रक्त दान के लिए जागरूकता फैलानी पड़ेगी जो केवल अपने कार्यो में ही व्यस्त रहते है, कि वो लोग भी छह महिने मे एक बार रक्त दान कर दिया करें। रक्त दान एक महा दान है।

ब्लड ट्रांसफ्यूजन मेडिसिन विभाग एक बहुत बड़ा ब्लड बैंक

कार्यक्र मे प्रो. एमएलबी भट्ट ने कहा कि ब्लड ट्रांसफ्यूजन मेडिसिन विभाग एक बहुत बड़ा ब्लड बैंक है जहां पर वार्षिक 70,000 यूनिट रक्त एत्रित किया जाता है। रक्त दान बहुत ही आवश्यक है इससे कितने सारे मरीजो की जान बचाई जा सकती है। रक्त दान के लिए समाज को जागरूक करना पड़ेगा। कार्यक्रम में ट्रांसफ्यूजन मेडिसिन विभाग की विभागाध्यक्ष डॉ. तुलिका चंद्रा ने बताया कि रैली मैं यूपीएसएसीएस एवं केजीएमयू इंस्टीट्यूट ऑफ पैरामेडिकल के विद्यार्थियों ने भाग लिया।

36 लोगों ने रक्तदान किया

इस अवसर पर ब्लड ट्रांसफ्यूजन मेडिसिन विभाग और यूनाईटेड संस्था के संयोजन से रक्त दान शिविर का भी आयोजन किया गया। आयोजन का शुभारम्भ महापौर डॉ. संयुक्ता भाटीया ने किया जिसमें केजीएमयू से पंकज कुमार सिंह, रोहित, बृजेश कुमार यादव, सत्येंद्र सहित 36 लोगो ने रक्त दान किया। इस अवसर पर रेस्पिरेटरी मेडिसिन विभाग, केजीएमयू के विभागाध्यक्ष प्रो सूर्य कांत, ट्रामा सर्जरी विभाग के विभागाध्यक्ष प्रो. संदीप तिवारी, प्लास्टिक सर्जरी विभाग, एसजीपीजीआई के विभागाध्यक्ष प्रो राजीव अग्रवाल, आरएस दिक्षीत और डॉ गीता अग्रवाल उपस्थित रहे।

-------------------------------------------

1090 चौराहे से 100 से अधिक बाइकर्स ने निकाली जागरूकता रैली

विश्व रक्तदाता दिवस के अवसर पर 1090 चौराहे पर बाइक रैली का आयोजन किया गया। बाइक रैली को रक्तदान का प्ले कार्ड दिखाकर जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा ने रवाना किया। रैली में 100 से ज्यादा बाइकर्स ने भाग लिया। जिलाधिकारी ने कहा कि हमें अधिक से अधिक लोगों को स्वैच्छिक रक्तदान के लिए प्रेरित करना चाहिए। उन्होंने कहा कि अप्रैल और मई के महीने में सबसे ज्यादा दुर्घटनाएं होती हैं और इसी दौरान सबसे ज्यादा रक्त की आवश्यकता पड़ती है। यदि अधिक से अधिक लोग स्वैच्छिक रक्तदान करें तो व्यावसायिक रक्तदाताओं से मुक्ति मिल सकेगी जो कि सभी का लक्ष्य है। विकसित देशों में लगभग 100 प्रतिशत रक्तदान स्वैच्छिक रक्तदान के द्वारा दिया जाता है। रैली में अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. सईद अहमद, डॉ. संजय कुमार, डॉ. अनूप श्रीवास्तव, डॉ. आरवी सिंह, जिला मलेरिया अधिकारी डीएन शुक्ला, योगेश रघुवंशी ,जिला क्षय रोग अधिकारी डॉ. बीके सिंह, राज्य एड्स नियंत्रण सोसायटी से डॉ. गीता अग्रवाल, स्टेट ब्लड सेल कोऑर्डिनेटर नीलिमा पाठक और अभिषेक सिंह, सीएमओ कार्यालय से डॉ. मंयक चौधरी, देवेंद्र सिंह, शैलेंद्र गुप्ता उपस्थित थे। कार्यक्रम में अवध बाइकर्स एसोसिएशन ने सहयोग दिया।

सीएमओ बोले रक्तदान से व्यक्ति स्वस्थ रहता है

रैली को संबोधित करते हुए मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. नरेंद्र अग्रवाल ने कहा कि ऐसे कार्यक्रमों का आयोजन करने का उद्देश्य यही है कि समाज में रक्तदान के प्रति जागरुकता पैदा की जाय और अधिक से अधिक लोग रक्तदान करें। रक्तदान करने से व्यक्ति स्वस्थ रहता है, उसके अंदर एंटीबॉडीज का निर्माण होता है। ह्रदय रोग से भी उसमें लाभ होता है। रक्तदान करने वाले लोगों को हृदय रोग होने की संभावना कम होती है।

----------------------------------------------

प्रदीप, अजय, डॉ राजीव, संजय को रक्तवीर रक्तदानी अवार्ड

-बलरामुपर अस्पताल में सम्मान समारोह का आयोजन

विश्व रक्तदाता दिवस के अवसर पर बलरामपुर चिकित्सालय में सम्मान समारोह आयोजित किया गया। जिसकी अध्यक्षता निदेशक डॉ. राजीव लोचन ने किया। जिसमें प्रदेश में रक्तदान के क्षेत्र में सराहनीय कार्य करने वाले संस्थानों को सम्मानित किया गया। मुख्य रूप से संवेदना द फाउंडेशन, ब्लड कमांडो उ प्र, सन्त निरंकारी, पैयामे इंसानियत, दिव्य सेवा फाउंडेशन और रेड क्रास सोसायटी को सम्मानित किया गया।

इस अवसर पर संवेदना द फाउंडेशन के प्रदीप पांडेय, अजय तिवारी, डॉ राजीव एवं संजय यादव को उनके लगातार रक्त सेवा के लिए रक्तवीर रक्तदानी आवाडॆ से सम्मानित किया गया। विश्व रक्तदाता दिवस के अवसर पर बलरामपुर चिकित्सालय ब्लड बैंक में संवेदना द फाउंडेशन, ब्लड कमांडो उप्र एवं दिव्य सेवा फाउंडेशन ने रक्तदान शिविर का लगाया गया जिसमें 36 युनिट्स रक्त एकत्रित किया गया। संवेदना द फाउंडेशन के राष्ट्रीय कार्यक्रम निदेशक सौरभ निगम ने बताया कि जिंदगी जीने का सबसे बेहतरीन तरीका है कि अपने रक्त को दुसरो की नसों में बहने दें और अगर किसी को उपहार में कुछ देना ही है तो जीवन दान दें।

-----------------------------------------------

101 लोगों ने शपथ हस्ताक्षर कर रक्तदान करेंगे

डालीगंज स्थित श्री राधा माधव सेवा संस्थान 101 लोगो से शपथ हस्ताक्षर कर रक्तदान करेगा। केजीएमयू की डॉ. तूलिका चंद्रा को संस्था के सदस्यों ने आवेदन पत्र देकर रक्तदान कैम्प लगाने की मांग की। डॉ. तूलिका चंद्रा ने बताया कि 11 जुलाई को डालीगंज में रक्तदान शिविर लगाया जाएगा। इस अवसर पर भारत भूषण गुप्ता, राकेश साहू, ओमकर जायसवाल, श्याम जी साहू, गोविंद साहू, दिनेश अग्रवाल उपस्थित रहे।

----------------------------------------------------

एयरटेल ने किया रक्तदान शिविर

दूरसंचार सेवा प्रदाता भारती एयरटेल(एयरटेल) ने विश्व रक्तदाता दिवस के अवसर पर मेडिक्स अस्पताल के साथ मिलकर सर्किल कार्यालय में रक्तदान शिविर लगाया। इस शिविर का आयोजन लोगों में रक्तदान के प्रति जागरूकता को बढ़ाने के लिये किया गया। जिसमें एयरटेल के प्रबंधन अधिकारी व अन्य कर्मचारी शामिल रहे।

-----------------------------------------------------------

पीजीआई ने रक्तदाताओं के किया सलाम

-खून नहीं है विकल्प केवल दान से मिलना संभव

रक्तदान करने वालों को संजय गांधी पीजीआई के ब्लड ट्रांसफ्यूजन मेडिसिन विभाग ने सलाम किया। इस मौके पर निदेशक प्रो.राकेश कपूर ने कहा कि पैसे का दान तो कोई कर सकता है लेकिन खून का दान कम ही लोग करते है। इस दान के लिए आगे आने की जरूरत है। विभाग के प्रो. अतुल सोनकर ने कहा कि अभी भी युवा और पुरूष ही सबसे अधिक रक्तदान कर रहे है । सभी वर्ग के लोगों को आगे आने की जरूरत है। तमाम भ्रांतिया हैं जिसके कारण लोग हिचकते हैं।

18 स्वैछिक रक्तदाता और 25 संगठनों को किया गया सम्मानित

100 बार से अधिक रक्तदान कर चुके डीके सिंह और उनकी पत्नी विद्या सिंह को इस मौके पर सम्मानित किया गया । संजय गांधी पीजाई में टेक्निकल ऑफिसर डीके सिंह ने बताया कि केजीएमयू में डिप्लोमा करते समय 1984 में पहली बार रक्तदान किया था। इसके बाद 1988 में पीजीआई में नियुक्ति मिल गई, लेकिन रक्तदान का सिलसिला लगातार जारी रहा। उनकी पत्नी भी इस अभियान में शामिल हैं। वह भी 50 बार से अधिक रक्तदान कर चुकी है। बेटा जयंत भी रक्तदान कर रहा है । पेशे से नर्सिग अधीक्षिका नीमा पंत भी 50 बार से अधिक रक्तदान कर चुकी हैं। कहती है कि मरीजों को देखा कि कैसे वह खून के बिना परेशान होते है। इसी परेशानी को दूर करने के लिए रक्तदान करना शुरू किया जो आज भी जारी है। सतीश चंद्रा भी 87 वीं बार रक्त दान कर चुके है, कहा कि बडा सुकून मिलता है। इसके अलावा प्रीतपाल सिंह, इंद्र पाल सिंह, पुलकित वर्मा, कुलदीप सिंह, रोहित रस्तोगी, गगन दीप सिंह, अमर गुरूंग, गौरव कुमार श्रीवास्तव, नवनीत मौर्य, केसी कुलबे, पावमान सिदगिकर, रवींद्र वर्धन सिंह, मानवता बाजपेयी, बलराज. शशांक सिंडे, वीके सिंह सहित अन्य को सम्मानित किया।

लखनऊ के आठ सौ लोगों का जीवन बचा चुके है ढिल्लन

रक्त पूरक चैरटेबिल फाउंडेशन के संस्थापक बलराज सिंह ढिल्लन लखनऊ के आठ सौ से अधिक लोगों का जीवन रक्तदान कर बचा चुके हैं। इनके फाउंडेशन से लखनऊ के एक हजार लोग जुड़े हैं जिन्हे रक्त की जरूरत होती है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:lko