अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अकबर नहीं महाराणा प्रताप महान थे : योगी

महाराणा प्रताप की जयंती

- मुख्यमंत्री ने किया अवध प्रहरी (पाक्षिक) के युवा शौर्य विशेषांक का लोकार्पण

- योगी बोले, महापरुषों से प्रेरणा लेकर भावी जीवन को सुरक्षित बनाया जा सकता

लखनऊ-वरिष्ठ संवाददाता

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि अकबर महान नहीं महाराणा प्रताप महान थे, जिन्होंने विपरीत स्थिति में भी स्वाभिमान सम्मान बनाए रखा। इतिहास में ऐसा उदाहरण मिलना मुश्किल है। वनवासी समाज आज भी अपने को राणाप्रताप का वंशज मानते हैं। ऐसे महापरुषों से प्रेरणा लेकर समाज अपने भावी जीवन को सुरक्षित बना सकता है।

मुख्यमंत्री गुरुवार को वीर शिरोमणि महाराणा प्रताप की जयंती के अवसर पर आरएसएस की अवध प्रहरी (पाक्षिक) की ओर से प्रकाशित युवा शौर्य विशेषांक के लोकार्पण के मौके पर आयोजित कार्यक्रम में बोल रहे थे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि अकबर के दूतों को राणा प्रताप ने दो टूक जवाब दिया था कि विदेशी और विधर्मी को हम अपना बादशाह नहीं स्वीकार कर सकते। महाराणा प्रताप के सामने अकबर का एक संदेश था कि वे एक बार बादशाहत स्वीकार कर लें। ये संदेश ले जाने वालों में जयपुर के राजा मान सिंह भी थे। महाराणा प्रताप ने इसे एक बार भी स्वीकार नहीं किया। अकबर के साथ स्वाभिमान, सम्मान गिरवी रखने वाले राजा भी थे लेकिन महाराणा प्रताप ने स्वाभिमान, सम्मान को अपने छोटे से राज्य के साथ जीवित रखा।

अतीत से भटका समाज कभी अपने उज्जवल भविष्य का आधार नहीं रख सकता। हमारा अतीत ही हमें आगे बढ़ने की प्रेरणा देता है। विपरीत परिस्थितियों में भी देशभक्ति, शौर्य, पराक्रम, साहस, त्याग जिसने पूरे देश के सामने प्रस्तुत किया वह नाम महाराणा प्रताप का ही है। यही कारण है 500 साल बाद भी लोग महाराणा प्रताप को याद कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि अगर उन्होंने अकबर की शर्त मान ली होती तो क्या आज मेवाड़ को हम स्वाभिमान का प्रतीक मान रहे होते।

समाज जागरण का काम कर रही पत्र-पत्रिकाएं

इससे पहले कार्यक्रम के विशिष्ट अतिथि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के अखिल भारतीय सह प्रचार प्रमुख नरेन्द्र ठाकुर ने बताया कि पत्र-पत्रिकाओं के माध्यम से संघ समाज जागरण का काम काफी समय से कर रहा है। तीन लाख से अधिक गांव में एक ही विचार को लेकर पत्रिकाओं को पहुंचा रहे हें। उन्होंने भी कहा कि महाराणा प्रताप का जीवन सार्थक जीवन जीने के लिये प्रेरित करता है। वे कभी रुके नहीं, कभी झुके नहीं, गुलामी को स्वीकारा नहीं और उच्च आदर्श हमेशा जीवन में रखे। कार्यक्रम में विशिष्ट अतथि एससीएसटी आयोग के अध्यक्ष बृजलाल भी मौजूद रहे। कार्यक्रम की अध्यक्षता मेधज टेक्नो कांसेप्ट प्राईवेट लिमिटेड के सीएमडी समीर त्रिपाठी ने की। अवध प्रहरी के सम्पादक शिवबली विश्वकर्मा, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ अवध प्रांत के प्रचार प्रमुख डॉ. अशोक दुबे, सह प्रांत प्रचार प्रमुख लोकनाथ, सह प्रांत प्रचार प्रमुख दिवाकर अवस्थी समेत कई लोग मौजूद रहे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:lko