अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

खतरनाक निर्माणाधीन पुलों के नीचे बंद होंगे रास्ते

वाराणसी में हुए हादसे से सबक लेते हुए जिला प्रशासन ने शहर में निर्माणाधीन पुलों की जांच शुरू करा दी है। साथ ही उन पुलों की सूची बनाने को कहा है जहां अभी काम शुरुआती चरण में है। ऐसे पुलों के नीचे बेरिकेडिंग लगाकर ट्रैफिक बंद कर दिया जाएगा। गुरुवार को शिविर कार्यालय में डीएम ने इस संबंध में एक बैठक भी की।

डीएम ने सेतु निगम, लखनऊ मेट्रो के आला अफसरों से विचार विमर्श करने के बाद यह निर्णय लिया है। डीएम कौशल राज शर्मा ने बताया कि ऐसे पुलों की सूची बनाई जा रही है जिनके नीचे आवागमन खतरनाक हो सकता है। ऐसे में मेट्रो और सेतुनिगम के अधिकारी ट्रैफिक पुलिस को उन पुलों की सूची मुहैया कराएंगे। जब जिस पुल के बारे में निर्देश मिलेगा उसके नीचे या अगल-बगल ट्रैफिक रोक कर डायवर्ट किया जाएगा। डीएम के मुताबिक इस दौरान लोगों को थोड़ी असुविधा जरूर हो सकती है लेकिन ऐसा कर के किसी बड़े हादसे को टाला जा सकता है। गुरुवार को हुई बैठक में एडीएम वित्त एवं राजस्व अवनीश सक्सेना, एसपी ट्रैफिक आरएस निम, जीएम सेतु निगम आरएम गुप्ता, एनडीआरएफ के डिप्टी कमांडेंट आरपी भारती भी मौजूद रहे।

प्रशासन ने दिए नए निर्देश

- आम जनता और मजदूरों की सुरक्षा के लिए सभी ठेकेदारों को सुरक्षा प्रमाणपत्र देना होगा।

-कोई भी निर्माण कार्य चलते ट्रैफिक में नही किया जाएगा

- निर्माण के लिए एक माह पहले कार्ययोजना बनाकर एएसपी ट्रैफिक को देनी होगी

- ‘ओवरहेड कार्यों के लिए बेरिकेडिंग और ट्रैफिक डायवर्जन की व्यवस्था करनी होगी

क्रेन और जेसीबी की सूची भी मांगी

डीएम ने निर्माण कार्य करने वाले सभी ठेकेदारों से जेसीबी, हाइड्रा, क्रेन आदि मशीनों की सूची मांगी है। इसके पीछे उद्देश्य यह है कि जितनी भारी निर्माण सामग्री उपयोग में आ रही है, हादसे की स्थिति में उसको हटाने के इंतजाम कितने हैं। इसके अलावा कोई भी निर्माण बिना बेरिकेडिंग लगाए अब नहीं होगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:lko