class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गंदगी का यह हाल, अब सुनवाई की आस

-विभूतिखंड के इलाकों में टनों कूड़ा, जिसकी सफाई नगर निगम के लिये होगी बड़ी चुनौती

-फैसले से लोगों में जगी आस लेकिन कब तक होगी सफाई इसको लेकर असमंजस की स्थिति

गोमतीनगर के विभूतिखंड का बेहननपुरवा गांव। यहां हजारों की आबादी निवास करती है लेकिन गंदगी का आलम यह है कि गांव को जाने वाला मुख्य मार्ग ही पूरी तरह से कूड़े से पटा है। गांव पहुंचने के लिये लोगों को लोहिया अस्पताल के सामने से जाना पड़ रहा है। इससे नाराज लोगों ने सरकार तक अपनी बात पहुंचाने के लिये गुरुवार को प्रदर्शन भी किया।

दो दिन पहले एलडीए ने गोमतीनगर की इस कालोनी की सफाई व्यवस्था को नगर निगम को सौंप दिया है। इस फैसले से स्थानीय लोगों को राहत तो मिली है। उनके अंदर सुनवाई की आस भी जगी है। वे कहते हैं कि अब यहां सुधार कार्य के लिये विभाग के पास कोई बहानेबाजी तो नहीं रहेगी। उनको जल्द गंदगी से निजात मिलेगी। 45 सालों से लोग यहां मूलभूत सुविधाओं की मांग कर रहे हैं। पर, कुछ लोग ऐसे भी हैं जिनको इस बात को लेकर असमंजस है कि एलडीए ने कालोनी का पूरा विकास किया नहीं और नगर निगम को हैण्डओवर कर दिया। ऐसे में नगर निगम उनको कब तक और कैसे मूलभूत सुविधाएं मुहैया करायेगा।

कामर्शियल बिल्डिंगों और मॉल के कूड़े से पटे मुख्य मार्ग

गोमतीनगर के विभूतिखंड का बेहननपुरवा गांव गंदगी और कूड़े से पटा है। खाली प्लाटों पर झुग्गी वालों का कब्जा है। गांव तक जाने का मुख्य मार्ग कामर्शियल बिल्डिंगों और मॉल के कूड़े से भरा है। यहां से गुजरने का रास्ता तक नहीं बचा है। लोगों ने कई बार एलडीए के चक्कर काटे लेकिन उसके बाद भी कोई हल नहीं निकला।

प्राइमरी स्कूल जाने वाले मार्ग पर सीवर लाइन चोक, बजबजा रही नालियां

विभूतिखंड में स्थित बेहननपुरवा गांव में बड़े तो बड़े बच्चे भी कम परेशान नहीं है। यहां स्थित प्राइमरी स्कूल तक जाने वाले मार्ग पर सीवर लाइनें सालों से साफ नहीं की गईं। चोक होने की वजह से उसकी गंदगी सड़क तक फैली हुई है। बच्चों को स्कूल में बैठने के बाद भी बदबू के बीच पढ़ाई करना मजबूरी बना रहता है। मकान संख्या 18/1 में रहने वाले मेहंदी हसन के घर में सीवर का मलबा भरा हुआ है।

सरकारी सप्लाई दूषित, हैण्डपम्प सीवर लाइन में दबे

विभूतिखंड के इस गांव के लोगों को शुद्ध पानी भी नहीं मिल पा रहा है। पुरानी हो चुकी पानी की लाइनें जगह-जगह से लीकेज है। सीवर लाइनें चोक और नालियां मलब से बजबजा रही हैं। जो हैण्डपम्प हैं भी वो सीवर की लाइनों के बीच दबे हुए हैं। अन्य खराब पड़े हैं। ऐसे में पीने का पानी भी इलाके के लोगों को दूर-दराज से भरकर लाना पड़ता है।

---------------------------

एलडीए की ओर से विकसित की गई गोमतीनगर विस्तार के विभूतिखंड की सफाई का काम भले ही नगर निगम ने हैण्डओवर करा लिया लेकिन यहां लगा कूड़े का अम्बार साफ करा पाना टेढ़ी खीर बनी है।

पुरा विकास किये बिना एलडीए ने गोमतीनगर की विभूतिखंड की सफाई का काम नगर निगम को हैण्डओवर तो कर दिया है लेकिन यहां की गंदगी की सफाई उनके लिये बड़ी चुनौती होगा।

रूप कुमार शर्मा

मुख्य मार्ग कूड़े से पटा है। गांव तक आने वालों को काफी परेशानी होती है। खाली प्लाटों पर झुग्गी वालों का कब्जा है। मूलभूत सुविधायें बिलकुल नहीं है। कोई सुनवाई भी नहीं होती है।

पवन यादव

नगर निगम को कालोनी हैण्डओवर होने के बाद लगता है कि कुछ विकास होगा। क्षेत्र की सीवर लाइनें सालों पुरानी हो चुकी है और चोक भी हैं। गंदगी से लोग बीमार पड़ रहे हैं।

निसार अहमद

पीने का पानी गंदा आता है। पानी की लाइनों में लीकेज है और सीवर लाइनें चोक होने की वजह से उनकी गंदगी पानी सप्लाई की लाइनों में जा रही है। इससे निजात चाहिये।

ओम प्रकाश

नगर निगम को सबसे पहले मुख्य मार्ग पर पड़े कूड़े को हटाना चाहिये। उसके बाद प्राइमरी स्कूल को जाने वाले मार्ग पर सीवर लाइनों को सही कराकर स्वच्छ वातावरण देना चाहिये।

मो वाजिद

हमको गंदगी और कूड़े से निजात चाहिये। गांव में रहने वाले लोग साल भी इस गंदगी और कूड़े की वजह से बीमार रहते हैं। अच्छी कालोनी में रहने के बाद भी इस तरह का हल अब बर्दाश्त नहीं होता।

सुनील कुमार

-----------------------------------

नगर निगम सदन में शपथ ग्रहण करने के बाद क्षेत्र के मुख्य मार्ग की सफाई के लिये सबसे पहले प्रयास करूंगा। विशेष सफाई अभियान चलवाकर क्षेत्र को स्वच्छ और सुंदर बनाने का प्रयास प्राथमिकता से करूंगा।

कौशल शंकर पाण्डेय

पार्षद, गोमतीनगर वार्ड 61

--------------------------------

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:lko
सपा नेताओं ने राज्यपाल मिल कर बिजली दरें वापस कराने की मांग कीVIDEO: वेबसाइट के सहारे जानेंगे नैमिष की संस्कृति- राज्यपाल राम नाइक