अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

लखनऊ प्राणि उद्यान पहुंची घायल मादा तेंदुआ

-किसी हादसे में अपना अगला दाहिना पंजा खो चुकी मादा तेदुआ लखनऊ। वरिष्ठ संवाददाता लखनऊ प्राणि उद्यान में शुक्रवार सुबह पीलीभीत से रेस्क्यू कर एक घायल तेंदुए को लाया गया है। यह बुरी तरह से घायल है और आक्रामक भी नजर आ रहा है। किसी हादसे में वो अपना अगला दाहिना पंजा खो चुका है। भीषण संक्रमण के चलते अब उसे बाकी जिंदगी तीन पंजों से ही गुजारनी होगी। लखनऊ प्राणि उद्यान पहुंचा घायल तेंदुआ आने वाले समय में अपना बाकी जीवन अपंगता के साथ ही जीयेगा। गुरुवार शाम रेस्क्यू के बाद से शुक्रवार तड़के ही लखनऊ प्राणि उद्यान पहुंचा अवयस्क मादा तेंदुआ बहुत बुरी तरह से घायल है। प्राणि उद्यान के चिकित्सालय में आइसोलेशन वार्ड मे उसका इलाज चल रहा है। उपनिदेशक और वरिष्ठ वन्यजीव चिकित्सक डा. उत्कर्ष शुक्ला ने बताया ऐसा लगता है कि पिछले समय किसी हादसे में वो अपना अगला दाहिना पंजा खो चुका है। भीषण संक्रमण के चलते अब उसे बाकी जिंदगी तीन पंजों से ही गुजारने होगी। यही कारण है कि वो आसान शिकार के लिये आबादी में घुसा था। शुक्रवार दिन भर उसने करीब दो-तीन लीटर खास मिनरल्स युक्त पानी पीने के अलावा मामूली चिकन खुराक भी ली। चूंकि वो संक्रमण से गुजर रहा है, इसलिये अभी वो लगातार एक हफ्ते तक निगरानी में रहेगा। पकड़कर लाया गया तेंदुओ मादा है प्राणि उद्यान के निदेशक अनुपम गुप्ता के मुताबिक यह एक मादा तेंदुआ है। इसकी उम्र लगभग डेढ से दो वर्ष है, जिसके आगे के बाएं पैर में काफी गंभीर चोट लगी हुई है जिसमें से काफी खून बह चुका है। इस बाघ को प्राणि उद्यान के वन्य जीव अस्तपताल के आइसोलेशन वार्ड में डाक्टरों की 24 घंटे की निगरानी में रखा जा रहा है परन्तु अभी भी इसकी हालत गंभीर बनी हुई है। स्टाफ ने मादा तेंदुए का नाम रखा 'पूरन' पीलीभीत के पूरनपुर गांव से रेस्क्यू होकर आने की वजह से स्टाफ पहले ही दिन से उसे 'पूरन' नाम से पुकार रहा है। महिलाओं की बहादुरी से पकड़ा गया तेंदुआ प्राणि उद्यान में शुक्रवार तड़के पहुंचा तेंदुआ महिलाओं की बहादुरी के कारण पकड़ा गया और पूरनपुर पीलीभीत से लाया गया। प्राणि उद्यान के स्टाफ के मुताबिक घायल होने के कारण शिकार की तलाश में जटपुरा गांव में घुसकर छप्पर वाले एक मकान में छुपे तेंदुए को गुरुवार शाम ट्रैंक्यूलाइज करके पकड़ा गया था। हरीपुर रेंज जंगल से निकला तेंदुआ जटपुरा गांव पहुंचा टाइगर रिजर्व की हरीपुर रेंज जंगल से निकला ये अपंग तेंदुआ गुरुवार सुबह करीब सात बजे गांव जटपुरा में जा घुसा। जहां एक बकरी को मारने के बाद जब वो जंगल ले गया तो ग्रामीणों ने हमला बोल दिया। एक घर में घुसे तेंदुए को महिला ने रोकने के लिये चारपाई लगाकर पकड़ने में मदद दी। 10 महीनों में कई वन्यजीव लाये गये लखनऊ प्राणि उद्यान आंकड़ों की मानें तो पिछले करीब 10 महीने में लखनऊ प्राणि उद्यान में आसपास के इलाकों से रेस्क्यू होकर दर्जन भर अधिक बाघ, तेंदुए, जंगली बिल्ली लाये गये हैं। जो प्राणि उद्यान के चिकित्सालय के कोरेनटाइन बैरक में हैं। आदमखोर बाघ छेदी, बाघिन जूलिया, के अलावा आधा दर्जन जंगली बिल्लियों के अलावा तीन तेंदुए भी आये हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:lko