अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सरकारी योजनाओं को लोगों तक पहुंचाने का केन्द्र बने पुस्तकालय

पुस्तकालयों को सरकार द्वारा चलाई जाने वाली योजनाओं को लोगों तक पहुचाने का केन्द्र बनना चाहिए,क्योंकि पुस्तकालय में हर वर्ग के लोग आते हैं। यह सुझाव डॉ. राम मनोहर लोहिया राष्ट्रीय विधि विश्वविद्यालय के डिप्टी लाइब्रेरिएन डॉ. मनीष बाजपेयी ने रविवार को दिया। वह पुस्तकालय विज्ञान के जनक पद्मश्री डॉ. शियाली रामामृत रंगानाथन की 126वीं जयंती पर अमीरूदौला पब्लिक लाइब्रेरी में आयोजित समारोह में बोल रहे थे।

वर्तमान समय में पुस्तकालय की भूमिका विषय पर आयोजित परिचर्चा में विभिन्न शैक्षणिक संस्थाओं, पब्लिक पुस्तकालय व व अनुसंधान संस्थाओं के साथ पुस्तकालयाध्यक्षों के साथ पुस्कालयों के विकास के लिए विचार-विमर्श किया गया। इसमें लोहिया विधि विवि के डॉ. मनीष ने कहा कि हम लोगो को पुस्तकालय के क्षेत्र में भी कुछ नया करना चाहिए। साथ ही पुस्तकालयो इस तरह से तैयार किया जाए। जिससे कि वहां आने वाले या अन्य जो भी लोग चाहे सरकारी योजनाओं की जानकारी हासिल कर सकें। डॉ. मनीष ने यह भी कहा कि मीडिया को भी पुस्तकालय के दोस्त के रूप में जोडना चाहिए। इण्डियन पब्लिक लाइब्रेरी मूवमेण्ट, उत्तर प्रदेश के राज्य समन्वयक विवेक ने कहा कि उत्तर प्रदेश में 22 करोड़ लोगो के लिए केवल 2000 ही पब्लिक लाइब्रेरी हैं, जबकि अन्य प्रदेशो से काफी कम है। यह चिन्ता का विषय है।

कार्यक्रम में बीबीडीयू के लाइब्ररियन फैजुद्दीन, नेशनल पीजी कॉलेज के रूपेश दीक्षित, इंडियन पब्लिक लाइब्रेरी मूवमेंट उत्तर प्रदेश के समऩ्वयक आलोक, प्रतिभा,शिखा व जियाउल हक ने भी अपने विचार रखे। अतिथियों को अमीरूदौला पब्लिक लाईब्रेरी की पुस्तकालयाध्यक्ष शशिकला ने धन्यवाद ज्ञापित किया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Library set up to bring government schemes to the people