अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मदरहवा गांव में तेंदुए ने दो कुत्तों को बनाया निवाला

Panic, week, dogs

गैसड़ी थाने के मदरहवा गांव में तेंदुए का आतंक बढ़ता जा रहा है। मंगलवार रात तेंदुए ने हांका लगाने के दौरान दो कुत्तों को गांव में घुसकर निवाला बना लिया। ग्रामीण जागकर रात बिता रहे हैं। दहशतजदा ग्रामीणों ने एडीएम से तेंदुए को पकड़ने के लिए गांव में पिंजड़ा लगाने की मांग की है।
गैसड़ी ब्लाक के पडरौना ग्राम पंचायत का मजरा है मदरहवा। यह गांव सोहेलवा वन्यजीव क्षेत्र अंतर्गत रामपुर रेंज से करीब 20 किलोमीटर दूर है। एक सप्ताह पहले लोगों ने गांव के बाहर तेंदुए को देखा था। तभी से गांव के लोग सतर्क हो गए थे। 
सोमवार को तेंदुए ने गांव के बाहर एक मवेशी को मार दिया था। उसे खाते समय चरवाहे पहुंच गए जिसके चलते वह मांस छोड़कर भाग गया था। उसी रात तेंदुआ मदरहवा गांव में घुस आया। उसने एक कुत्ते को अपना निवाला बना लिया। सुबह लोग उठे तो देखा कि कुत्ते का अवशेष गांव में पड़ा हुआ था। मंगलवार को गांव के लोगों ने पहरा देना शुरू कर दिया। रात करीब 10 बजे तेंदुए को देखकर ग्रामीणों ने शोर मचाया। ग्रामीणों ने हकवा लगाकर उसे खदेड़ा। चालाक तेंदुआ पीछे से घूमकर गांव में घुस गया। उसने गांव के दो कुत्तों को मार डाला। एक घंटे बाद लोग लौटे तो देखा कि दो कुत्ते मरे पड़े थे। 
घटना से गांव में दहशत फैल गई है। ग्रामीण रामकुमार, रामनिवास, दद्दन, कैलाश, मूसे, ननकने, राजजियावन, संतराम आदि ने बताया कि गांव में अधिकांश घर फूस के बने हैं। लोग अपने बच्चों की सुरक्षा करने के लिए जागकर रात बिता रहे हैं। वन विभाग को कई बार सूचना दी गई लेकिन गांव में कोई नहीं आया। रामपुर के रेंजर रामानंद मौर्य व जनकपुर के वन क्षेत्राधिकारी भानूप्रकाश श्रीवास्तव सीमा विवाद में फंसे हुए हैं। दोनों का कहना है कि मदरहवा गांव उनके क्षेत्र में नहीं है। ग्रामीणों ने डीएफओ रजनीकांत मित्तल व एडीएम अरुण कुमार शुक्ल से मिलकर गांव में पिंजड़ा लगाने की मांग की है। डीएफओ ने बताया कि मौके पर वन विभाग की टीम भेजी गई है। जांच के बाद पिंजड़ा लगाया जाएगा। 
 
 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Leopard made two dogs in Madarwawa village