DA Image
हिंदी न्यूज़ › उत्तर प्रदेश › लखनऊ › नए अस्पतालों के लिए भूखंड सृजित करेगा एलडीए
लखनऊ

नए अस्पतालों के लिए भूखंड सृजित करेगा एलडीए

हिन्दुस्तान टीम,लखनऊPublished By: Newswrap
Thu, 24 Jun 2021 10:30 PM
नए अस्पतालों के लिए भूखंड सृजित करेगा एलडीए

लखनऊ। प्रमुख संवाददाता

एलडीए राजधानी में नए अस्पतालों के लिए प्लॉट सृजित करेगा। गुरुवार को एलडीए उपाध्यक्ष अभषेक प्रकाश की अध्यक्षता में देर रात तक चली बैठक में इसका फैसला लिया गया। कोरोना को देखते हुए शहर के अलग-अलग हिस्सों में अस्पताल के प्लॉट सृजित होंगे।

एलडीए उपाध्यक्ष अभिषेक प्रकाश ने गुरुवार को देर शाम प्राधिकरण की समीक्षा बैठक ली। आने वाले दिनों में कोरोना या अन्य महामारी की वजह से लोगों को अस्पतालों की दिक्कत न पैदा हो इसके लिए एलडीए उपाध्यक्ष ने प्राधिकरण के मुख्य नगर नियोजक नितिन मित्तल को जमीन तलाश कर अस्पताल के नए भूखंड सृजित करने को कहा है। रिक्त फ्लैटों की बिक्री कम होने पर उपाध्यक्ष ने नाराजगी जताई। फ्लैटों की बिक्री के लिए संबंधित अपार्टमेंट में उत्तरदाई अधिकारियों के नाम तथा उनके फोन नंबर का बोर्ड लगाया जाएगा। अधिशासी अभियंता को एक औचक तथा एक नियमित निरीक्षण करना होगा। सहायक अभियंता को प्रतिदिन 3 निरक्षण करना होगा। अवर अभियंता को पांच से 7 घंटे क्षेत्र में रहकर अवैध निर्माणों को रोकना होगा। जिन कर्मचारियों का स्थानांतरण हो चुका है तथा अभी उन्होंने नई जगह ज्वाइन नहीं किया है उन्हें 7 दिन का मौका दिया गया है। इसके बाद उन्हें निलंबित कर दिया जाएगा। जिन आवंटियों ने अभी तक रजिस्ट्री नहीं करायी है उन्हें एक अंतिम नोटिस जारी होगी। एलडीए इस वर्ष एक लाख पौधे लगाएगा।

----------------------

बसंत कुंज योजना में 4512 प्रधानमंत्री आवास बनेंगे

एलडीए प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत बसंत कुंज योजना के सेक्टर आई में 4512 नए प्रधानमंत्री आवास बनाएगा। गुरुवार को बैठक में इस पर भी निर्णय लिया गया। एलडीए उपाध्यक्ष ने इंजीनियरिंग विभाग के अधिकारियों से कहा कि वह इसके लिए शीघ्र टेंडर कराएं। बोर्ड में लिए गए निर्णय के अनुसार प्राधिकरण खाली फ्लैटों को नीलामी के माध्यम से बेचेगा।

---------------------

टेंडर में पारदर्शिता के लिए अपर सचिव की अध्यक्षता में बनी कमेटी

प्राधिकरण में कार्यों के टेंडर में अब और पारदर्शिता आएगी। इसके लिए अपर सचिव ज्ञानेंद्र वर्मा की अध्यक्षता में 2 सदस्यीय समिति गठित की गई है। समिति तकनीकी बिड की शर्तों का परीक्षण करेगी। समयबद्ध प्रक्रिया अपनाते हुए टेंडर प्रक्रिया को पूर्ण कराने की दिशा में रिपोर्ट देगी। कोई भी टेंडर बिना सत्यापन के किसी को आवंटित नहीं होगा। कोई भी कार्य बिना डिमांड सर्वे नहीं होगा।

-----------

संबंधित खबरें