ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेश लखनऊएलडीए ने अपनी ही प्रस्तावित टाउनशिप में पास कर दिया बिल्डरों का नक्शा

एलडीए ने अपनी ही प्रस्तावित टाउनशिप में पास कर दिया बिल्डरों का नक्शा

एलडीए के अधिकारियों ने अपनी ही प्रस्तावित टाउनशिप में बिल्डरों के नक्शे पास कर दिए। बिल्डरों को अपने लिए आरक्षित 1000 एकड़ जमीन पर इंटीग्रेटेड...

एलडीए ने अपनी ही प्रस्तावित टाउनशिप में पास कर दिया बिल्डरों का नक्शा
हिन्दुस्तान टीम,लखनऊThu, 22 Feb 2024 02:05 AM
ऐप पर पढ़ें

एलडीए के अधिकारियों ने अपनी ही प्रस्तावित टाउनशिप में बिल्डरों के नक्शे पास कर दिए। बिल्डरों को अपने लिए आरक्षित 1000 एकड़ जमीन पर इंटीग्रेटेड टाउनशिप का लाइसेंस दे दिया। आवास विकास परिषद ने हाल ही में एलडीए से सुल्तानपुर रोड पर पास किए गए बिल्डरों के नक्शों का विवरण मांगा तो इसका खुलासा हुआ।

लखनऊ विकास प्राधिकरण (एलडीए) सुल्तानपुर रोड पर अपनी दो टाउनशिप आईटी सिटी और वेलनेस सिटी ला रहा है। इन दोनों टाउनशिप का दायरा छोटा हो गया है, क्योंकि पूर्व के अधिकारियों ने इस योजना की जमीन का लाइसेंस बिल्डरों को दे दिया। छह बिल्डरों को 800 एकड़ की इंटीग्रेटेड टाउनशिप का लाइसेंस दिया गया है। 11 अन्य बिल्डरों के भी नक्शे पास कर दिए गए, जिनकी भूमि लगभग 200 एकड़ है। ऐसे में एलडीए के पास इन दोनों योजनाओं के लिए सुल्तानपुर रोड पर लगभग 2800 एकड़ भूमि ही बची है।

2020-2021 के बीच खेल

एलडीए के तत्कालीन उपाध्यक्ष प्रभु नारायण सिंह ने सहारा इण्डिया की 2052 एकड़ की हाईटेक टाउनशिप का लाइसेंस निरस्त कराया था। इसके बाद उन्होंने उसी समय यहां करीब 4000 एकड़ में नई टाउनशिप विकसित करने का निर्णय लिया था। इसके लिए उन्होंने कवायद शुरू करा दी थी। उनके तबादले के बाद अधिकारियों ने इंटीग्रेटेड टाउनशिप का लाइसेंस खोल दिया। एक उपाध्यक्ष ने तो अपने कार्यकाल में तीन बिल्डरों को इंटीग्रेटेड टाउनशिप का लाइसेंस दे दिया। कई बिल्डरों के नक्शे भी पास कर दिए।

आवास विकास ने विवरण मांगा तो हुआ खुलासा

सुल्तानपुर रोड पर एलडीए के अलावा आवास विकास परिषद भी आवासीय योजना ला रहा है। इसके लिए उसने एलडीए से उन बिल्डरों का विवरण मांगा है, जिन्हें प्राधिकरण ने टाउनशिप का लाइसेंस दिया है। इसमें पूरे मामला का खुलासा हुआ।

बाद में लगाई गई रोक, तैयार कराई डीपीआर

एलडीए उपाध्यक्ष डॉ. इन्द्रमणि त्रिपाठी को वीसी बनने के बाद इस योजना की जानकारी हुई। पहले टाउनशिप का नाम ही नहीं था। कागजों में भी बहुत धीमी गति से काम चल रहा था। जिम्मेदारी संभालने के बाद त्रिपाठी ने यहां जमीन पर नक्शे पास करने और बिल्डरों को लाइसेंस जारी करने पर पाबंदी लगाई। इसके बाद आईटी सिटी व वेलनेस सिटी विकसित करने की योजना बनाकर डीपीआर तैयार कराई, जो अब शासन के पास पहुंच चुकी है।

एलडीए की सुल्तानपुर रोड पर प्रस्तावित योजना

पहले प्रस्तावित थी टाउनशिप 4000 एकड़

अब प्रस्तावित आईटी सिटी 1582 एकड़

प्रस्तावित वेलनेस सिटी योजना 1300 एकड़

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें