Last phase: BJP has power to increase voting strength - अंतिम चरण:मतदान बढ़ाने के लिए भाजपा ने झोंकी ताकत DA Image
12 दिसंबर, 2019|2:28|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अंतिम चरण:मतदान बढ़ाने के लिए भाजपा ने झोंकी ताकत

 final  phase  poll

1 / 4अंतिम चरण:मतदान बढ़ाने के लिए भाजपा ने झोंकी ताकत

 final  phase  poll

2 / 4अंतिम चरण:मतदान बढ़ाने के लिए भाजपा ने झोंकी ताकत

 final  phase  poll

3 / 4अंतिम चरण:मतदान बढ़ाने के लिए भाजपा ने झोंकी ताकत

final  phase  poll

4 / 4 अंतिम चरण:मतदान बढ़ाने के लिए भाजपा ने झोंकी ताकत

PreviousNext

प्रदेश के लोकसभा चुनाव के छह चरणों में घटते मतदान प्रतिशत को लेकर भाजपा नेतृत्व काफी गंभीर हो गया है। पार्टी नेतृत्व ने सातवें और आखिरी चरण की 13 सीटों पर मतदान का प्रतिशत बढ़ाने के लिए अपनी पूरी ताकत लगा दी है। इसके लिए प्रदेश के मुख्य चुनाव प्रभारी जे.पी.नड्डा और भाजपा प्रदेश के महामंत्री (संगठन) सुनील बंसल समेत सभी सह प्रभारी और पार्टी के अन्य पदाधिकारी पूर्वांचल जिलों की इन 13 सीटों पर प्रवास कर बूथवार बैठकें कर रहे हैं। 
अंतिम चरण में मतदान प्रतिशत बढ़ाने में भाजपा नेतृत्व का वाराणसी और गोरखपुर पर खास फोकस है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का संसदीय क्षेत्र वाराणसी होने के कारण इस बार बड़े अंतर से नरेंद्र मोदी को जिताने की तैयारी है। इसी के साथ गोरखपुर में भाजपा प्रत्याशी को बड़े अंतर से जिताकर उपचुनाव में हार के दाग को जोरदार तरीके से साफ करना है। 
50 फीसदी वोट हासिल करने का लक्ष्य:भाजपा पिछले 2014 लोकसभा चुनाव में 73 से ज्यादा सीटें हासिल करने का लक्ष्य इस लोकसभा चुनाव में लेकर चल रही है लेकिन भाजपा का यह मानना है कि यह लक्ष्य तभी पूरा होगा जब कुल पड़े वोटों में से 50 फीसदी वोट पार्टी प्रत्याशी के पक्ष में जाएं। 
मोदी और शाह लगातार जोर दे रहे 
भाजपा के समर्थक वोटरों को घर से निकालने की पार्टी नेतृत्व की चिंता जाहिर इस बात से हो रही है कि पीएम नरेंद्र मोदी चुनाव के इस आखिरी चरण में मतदाताओं को वोट के लिए मतदान केंद्र तक जाने के लिए प्रेरित कर रहे हैं। प्रधानमंत्री कह रहे हैं कि विरोधी दल भाजपा के मतदाताओं के मतदान केंद्र तक न पहुंचने के लिए लगातार साजिश रच रहे हैं। वे इन साजिशों से मतदाताओं को आगाह करने के साथ पहले मतदान फिर जलपान करने की बात अपने भाषणों में कह रहे हैं। प्रधानमंत्री ‘मेरा बूथ सबसे मजबूत’ का नारा देकर बूथ स्तर पर विपक्ष के साथ लड़ाई करने की बात कर रहे हैं। भाजपा के राष्ट्रीय अमित शाह भी लगातार अपने भाषणों में भाजपा समर्थक मतदाताओं को घर से निकालने के लिए कार्यकर्ताओं का आह्वान कर रहे हैं। जिस लोकसभा सीट पर वह भाषण देते हैं, बाद में  संगठन के पदाधिकारियों के साथ बैठक कर वोट प्रतिशत बढ़ाने की रणनीति पर भी विचार करते हैं। 
शुरू के तीन घंटे भाजपा समर्थकों के 25% तक पड़े वोट
वैसे तो एक से लेकर पांच चरण तक 2014 चुनाव की अपेक्षा 2019 में कम वोट पड़े। छठे चरण में भाजपा ने मतदान बढ़ाने के लिए कवायद की। उम्मीद थी कि छठे चरण में मतदान बढ़ेगा। बावजूद इसके छठे चरण में भी मतदान कम हुआ। छठे चरण में जहां 2014 में 54.53 फीसदी वोट पड़ा था तो वहीं 2019 में घटकर 54.12 ही रह गया। इसके बाद सातवें चरण में भाजपा नेतृत्व ने मत प्रतिशत बढ़ाने के लिए नए सिरे से रणनीति बनाई है। इसके तहत प्रदेश के मुख्य चुनाव प्रभारी समेत सभी चारों सह प्रभारियों को लगा दिया गया है। ये सभी पदाधिकारी सातवें चरण की 13 सीटों पर संगठन के मंडल स्तर पर बूथ प्रभारियों के साथ बैठक कर रहे हैं। सभी बूथ प्रभारियों से कहा जा रहा है कि वे मतदान शुरू होने के पहले तीन घंटे में 25 फीसदी से अधिक भाजपा समर्थकों को मतदान केन्द्र तक पहुंचा दें। नेतृत्व ने इस काम में राष्ट्रीय स्वयं सेवकों की सहायता लेने के लिए  संघ के पदाधिकारियों से भी बात की है।      

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Last phase: BJP has power to increase voting strength